NDTV Khabar

उत्तर कोरिया को एशिया में अलग-थलग करने की कोशिशों मे जुटा अमेरिका

उत्तर कोरिया को परमाणु हथियार कार्यक्रम त्यागने तथा मिसाइल परीक्षण बंद करने के लिए बाध्य करने के प्रयास

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उत्तर कोरिया को एशिया में अलग-थलग करने की कोशिशों मे जुटा अमेरिका

अमेरिका उत्तर कोरिया को अलग-थलग करने की कोशिश कर रहा है.

खास बातें

  1. एशिया फोरम से उत्तर कोरिया को निलंबित करने की तैयारी
  2. आसियान क्षेत्रीय मंच के संघर्ष रोकने के लक्ष्यों के उल्लंघन का आरोप
  3. आसियान क्षेत्रीय मंच में अमेरिका, उत्तर कोरिया सहित 25 अन्य देश
मनीला:

अमेरिका के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि वाशिंगटन इस बारे में वार्ता करना चाहेगा कि उत्तर कोरिया को एशिया के सबसे बड़े सुरक्षा मंच से कैसे निलंबित किया जा सकता है. अमेरिका उत्तर कोरिया को कूटनीतिक तौर पर अलग थलग करने, उसे उसका परमाणु हथियार कार्यक्रम त्यागने तथा मिसाइल परीक्षण बंद करने की खातिर बाध्य करने के लिए अपने व्यापक प्रयासों के तहत यह कदम उठाना चाहता है.

यह भी पढ़ें- उत्तर कोरिया के खिलाफ ''सभी विकल्पों पर कर रहे विचार'': अमेरिका

यह भी पढ़ें - उत्तर कोरिया द्वारा अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल के परीक्षण पर पाकिस्तान ने जाहिर की चिंता

यह भी पढ़ें - उत्तर कोरिया एक गंभीर खतरा : डोनाल्ड ट्रंप और शिन्जो अबे


पूर्वी एशिया और प्रशांत मामलों की कार्यकारी सहायक मंत्री सुजैन थॉर्नटन ने बुधवार को वाशिंगटन में संवाददाताओं से कहा कि उत्तर कोरिया की कार्रवाइयों ने आसियान क्षेत्रीय मंच के संघर्ष रोकने संबंधी लक्ष्यों का उल्लंघन किया है. आसियान क्षेत्रीय मंच में अमेरिका तथा उत्तर कोरिया सहित 25 अन्य देश शामिल हैं.
 
VIDEO : उत्तर कोरिया में किम जोंग-उन का अनादर करने की सजा

टिप्पणियां

फिलिपीन के दो अधिकारियों ने एपी को बताया कि अमेरिकी अधिकारियों ने फिलिपीन के अधिकारियों से उत्तर कोरिया को आसियान क्षेत्रीय मंच से निलंबित करने की संभावनाओं पर चर्चा की. फिलिपीन के अधिकारियों ने उन्हें बताया कि उत्तर कोरिया को आसियान क्षेत्रीय मंच में बनाए रखना बेहतर हो सकता है. ऐसा इसलिए , क्योंकि आसियान क्षेत्रीय मंच में इसे उकसावे की कार्रवाइयों पर रोक लगाने के लिए वार्ता के माध्यम से समझाया जा सकता है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement