NDTV Khabar

बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के मामले की ‘‘निष्पक्ष सुनवाई’’ हो : अमेरिका

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हम बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी की नेता खालिदा जिया को दोषी ठहराए जाने के बारे में जानते हैं और बांग्लादेश को निष्पक्ष सुनवाई सुनिश्चित करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं.’’

117 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के मामले की ‘‘निष्पक्ष सुनवाई’’ हो : अमेरिका

बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया

नई दिल्ली: अमेरिका ने बांग्लादेश से पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के मामले की ‘‘निष्पक्ष सुनवाई’’ सुनिश्चित करने की अपील की है. खालिदा को भ्रष्टाचार के मामले में पांच साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई गई है. ढाका की विशेष अदालत ने तीन बार प्रधानमंत्री रहीं 72 वर्षीया जिया को 2.1 करोड़ टका (करीब 2,50,000 डालर) के विदेशी चंदे के गबन के सिलसिले में यह सजा सुनायी. दरअसल, यह रकम ‘जिया ओरफनेज ट्रस्ट’ के लिए थी. इस ट्रस्ट का नाम उनके दिवंगत पति जियाउर रहमान के नाम पर रखा गया था. 

बांग्लादेश की पूर्व पीएम खालिदा जिया को भ्रष्टाचार के मामले में 5 साल की कैद, नहीं लड़ सकेंगी चुनाव

अमेरिकी  विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हम बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी की नेता खालिदा जिया को दोषी ठहराए जाने के बारे में जानते हैं और बांग्लादेश को निष्पक्ष सुनवाई सुनिश्चित करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं.’’ इसी फैसले में जिया के ‘‘भगोड़े’’ बड़े बेटे एवं बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) के वरिष्ठ उपाध्यक्ष तारिक रहमान को भी सजा सुनायी गयी है. रहमान पर उनकी गैर मौजूदगी में मुकदमा चला. रहमान और चार अन्य को 10-10 साल कैद की सजा सुनायी गयी है. प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हम विपक्ष के सदस्यों की गिरफ्तारी की सूचना से चिंतित हैं. हम बांग्लादेश सरकार को सभी लोगों के लिए निष्पक्ष सुनवाई सुनिश्चित करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं.’’  विदेश मंत्रालय ने बांग्लादेश सरकार से शांतिपूर्ण ढंग से एकत्र होने और अपने विचार स्वतंत्र तरीके से रखने संबंधी प्रत्येक व्यक्ति के अधिकारों का सम्मान करने भी अपील की.

वीडियो : राफेल की कीमत बताना देश हित में नहीं

प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हम समाज के लोगों से भी शांतिपूर्वक एवं जिम्मेदारी के साथ काम करने की अपील करते हैं. हम जोर देते हैं कि सभी पक्ष हिंसा से बचें. हिंसा लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को बाधित करती हैं.’’


 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement