NDTV Khabar

तूफान हार्वे से पीड़ित लोगों की मदद के लिए आगे आए भारतीय मूल के अमेरिकी डॉक्टर

डॉक्टरों ने अमेरिका के टेक्सास में चक्रवात हार्वे के कारण आई भयानक बाढ़ से पीड़ित लोगों की मदद करने के लिए राहत कोष बनाया

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तूफान हार्वे से पीड़ित लोगों की मदद के लिए आगे आए भारतीय मूल के अमेरिकी डॉक्टर

टेक्सास में तफान के बाद आई बाढ़ से पीड़ितों की मदद के लिए भारतीय मूल के अमेरिकी डॉक्टरों ने राहत कोष बनाया है.

खास बातें

  1. 'अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ फिजिशियन ऑफ इंडियन ऑरिजिन' कर रहा सेवा
  2. एएपीआई के कुछ सदस्य और उनके परिवार भी हार्वे चक्रवात से प्रभावित हुए
  3. दान से एकत्रित राशि टेक्सास के गवर्नर को दी जाएगी
वाशिंगटन:

टेक्सास प्रांत में चक्रवात हार्वे की वजह से आई भयानक बाढ़ से पीड़ित लोगों की मदद करने के लिए भारतीय मूल के अमेरिकी डॉक्टरों ने एक राहत कोष बनाया है. दान से एकत्रित राशि टेक्सास के गवर्नर को दी जाएगी.

‘अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ फिजिशियन ऑफ इंडियन ऑरिजिन’ (एएपीआई) के अध्यक्ष गौतम समद्दर ने कहा, “चक्रवात हार्वे ने तेज हवाओं और बाढ़ से टेक्सास को तबाह कर दिया है. इस गंभीर प्राकृतिक आपदा की वजह से लोगों की जानें गई हैं और संपत्ति को नुकसान पहुंचा है. इस आपदा से पीड़ित लोगों के प्रति हमारी संवेदनाए हैं.” उन्होंने कहा कि टेक्सास के कुछ एएपीआई सदस्य और उनके परिवार वाले भी हार्वे चक्रवात से प्रभावित हुए हैं.

यह भी पढ़ें : अमेरिका के टेक्सास में चक्रवात 'हार्वे' से भारी तबाही, 10 की मौत


दान से जो राशि इकट्ठी की गई है वह टेक्सास के गवर्नर को दी जाएगी. समद्दर ने कहा कि एएपीआई फिजिशियन अमेरिका में 10 फीसदी फिजिशियन का प्रतिनिधित्व करते हैं लेकिन करीब 30 फीसदी मरीजों को सेवा देते हैं. उन्होंने अन्य डॉक्टरों से भी इस उद्देश्य को पूरा करने में मदद की अपील की है.

यह भी पढ़ें : मुंबई में भारी बारिश के बीच झुग्गी वालों ने पेश की मिसाल, उधर ह्यूस्टन में तूफान के बाद लूटपाट

टिप्पणियां

समद्दर ने कहा, “जरूरत की इस घड़ी में इस भयानक प्राकृतिक आपदा से पीड़ित लोगों की हर संभव सहायता करना हमारी जिम्मेदारी है. टेक्सास में हमारे फिजिशियन अगले 2-4 सप्ताह में पीड़ितों से किसी तरह का शुल्क नहीं लेकर उनकी सेवा करेंगे.”

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement