NDTV Khabar

अमेरिकियों के मन में भूखमरी और बेघर होने का डर, सर्वेक्षण में खुलासा

20 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमेरिकियों के मन में भूखमरी और बेघर होने का डर, सर्वेक्षण में खुलासा

47 फीसदी अमेरिकी भूख और बेघर होने की चिंता से ग्रस्त हैं.

वाशिंगटन: हाल ही में गैलप फर्म की ओर से कराए गए सर्वेक्षण में इस बात का खुलासा हुआ है कि पिछले दो सालों में अमेरिकी लोगों के बीच भूख और बेघर होने को लेकर चिंता बढ़ती जा रही है, खासकर कम आय वाले अमेरिकी इसे लेकर ज्यादा चिंतित हैं. मार्च में हुए सर्वेक्षण के मुताबिक, कम आय वाले 67 फीसदी अमेरिकी भूख और बेघर होने को लेकर चिंतित हैं. उनके लिए यह एक प्रमुख समस्या है. 2010-11 में 51 फीसदी अमेरिकी इसे लेकर चिंतित थे. इसका बढ़कर 67 फीसदी होना महत्वपूर्ण है. यह सर्वेक्षण एक से पांच मार्च के बीच हुआ है. 

कुल मिलाकर 47 फीसदी अमेरिकी भूख और बेघर होने की चिंता से ग्रस्त हैं. इससे पहले जब अपने पहले साल, 2001 में गैलप ने सर्वेक्षण कराया था तो उस समय 45 फीसदी अमेरिकी इस समस्या को लेकर चिंतित थे. साल 2004 में इसमें गिरावट दर्ज हुई थी और 35 फीसदी अमेरिकी ही इस समस्या से चिंतित दिखाई दिए थे. 

गैलप ने बताया कि इस साल स्वास्थ्य देखभाल से संबंधित उपलब्धता और इससे जुड़े खर्च वहन करने के सामथ्र्य में भी उल्लेखनीय रूप से चिंता में वृद्धि देखी गई. 57 फीसदी लोग इस बारे में चिंतित हैं. 

कम आय वाले अमेरिकियों के बीच हालांकि भूख और बेघर होने का डर ही प्रमुख मुद्दा है. मध्य और उच्च आय वाले अमेरिकियों के बीच स्वास्थ्य संबंधी मुद्दा प्रमुख चिंता है. 

स्वास्थ्य देखभाल के साथ ही अपराध और हिंसा भी कम आय वाले अमेरिकियों की चिंता का प्रमुख कारण है. यह मध्य आय वाले अमेरिकियों की चिंता का भी कारण है, लेकिन उच्च आय वाले इसे लेकर ज्यादा चिंतित नहीं हैं.

कुल मिलाकर देखा जाए तो सर्वेक्षण बता रहा है कि अमेरिका में सभी वर्ग भूख और बेघर होने को लेकर ही ज्यादा चिंतित हैं. 

यह स्पष्ट नहीं है कि क्यों भूख और बेघर होने को बारे में अमेरिकी इतना ज्यादा चिंतित हैं,लेकिन कई बार दूसरे मुद्दों के राष्ट्रीय एजेंडे पर हावी होने से यह मुद्दा लोगों के दिलो-दिमाग से निकल जाता है. 

टिप्पणियां
गैलप के मुताबिक, सभी आय वर्ग वालों के बीच भूख और बेघर होने की चिंता की वजह राजनीतिक और हालिया वर्षों में अमेरिकी आय में असमानता के प्रति मीडिया द्वारा ध्यान खींचना हो सकता है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement