NDTV Khabar

भारतीय मूल के शख्स ने सिंगापुर के ध्वज के साथ फेसबुक पोस्ट की तस्वीर, शुरू हुआ विवाद

सिंगापुर के कानून के अनुसार कोई भी व्यक्ति ध्वज का अपमान नहीं कर सकता. इसके लिए अधिकतम जुर्माना 10,000 सिंगापुर डॉलर है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारतीय मूल के शख्स ने सिंगापुर के ध्वज के साथ फेसबुक पोस्ट की तस्वीर, शुरू हुआ विवाद

अविजीत दास पटनायक इस समय बैंक में काम करते हैं.

नई दिल्ली: भारतीय मूल के एक व्यक्ति के फेसबुक पोस्ट को लेकर सिंगापुर में लोगों के बीच नाराजगी पैदा हो गई है. इस फेसबुक पोस्ट में एक टी-शर्ट पर सिंगापुर का ध्वज फाड़कर उसके अंदर छिपे भारत के राष्ट्रीय ध्वज को दिखाया गया है.  यहां भारतीय समुदाय की शुक्रवार साप्ताहिक पत्रिका तबला के अनुसार, ऐसा माना जा रहा है कि यह तस्वीर स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या 14 अगस्त को पहली बार सोशल नेटवर्किंग साइट पर डाली गई. इसे ऑनलाइन तब बड़े पैमाने पर साझा किया जब अविजीत दास पटनायक ने सिंगापुर इंडियंस एंड एक्सपैट्स पेज पर तस्वीर पोस्ट की. इस पेज से 11,000 लोग जुड़े हुए हैं. खबर में बताया कि एक दशक से सिंगापुर में रह रहे पटनायक ने तस्वीर के साथ हिंदी में एक कैप्शन लिखे जो लोकप्रिय बॉलीवुड गीत ‘फिर भी दिल है...’'था.    कई नागरिकों ने इसे अपमानजनक बताया क्योंकि इसमें हाथों से सिंगापुर के ध्वज को फाड़ते हुए दिखाया गया है. पुलिस ने पुष्टि की कि वह इस मामले की जांच कर रहे हैं. 

दिल्ली की केजरीवाल सरकार 400 शिक्षकों को प्रशिक्षण के लिए सिंगापुर भेजेगी 

पटनायक से जब संपर्क किया गया तो उन्होंने माफी मांगी और कहा कि उनका आशय किसी का अपमान करना नहीं था. खबर में पटनायक के हवाले से कहा गया है, ‘‘मैंने तस्वीर नहीं बनाई और इसे पहले ही बड़े पैमाने पर साझा किया जा चुका था इसलिए मैंने इस तस्वीर को साझा कर दिया.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं सिंगापुर से बहुत प्यार करता हूं और मैं हमेशा देश की प्रशंसा करता हूं इसलिए मेरी मंशा कभी इतनी परेशानी पैदा करने की नहीं थी.  मुझे लगता है कि तस्वीर दिखाती है कि हमारा दिल अपनी मातृभूमि के लिए भी धड़कता है.’’    

नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन अचानक निकले सिंगापुर की सैर पर, साथ थे ये

पटनायक के इस समय डीबीएस बैंक में काम करते हैं और बैंक की ओर से कहा गया है कि वह इस मामले की जांच कर रहा है. सिंगापुर के कानून के अनुसार कोई भी व्यक्ति ध्वज का अपमान नहीं कर सकता. इसके लिए अधिकतम जुर्माना 10,000 सिंगापुर डॉलर है.

टिप्पणियां
सिंगापुर में छात्रों से बोले पीएम मोदी- 21वीं सदी एशिया की सदी है​

 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement