यह ख़बर 02 दिसंबर, 2013 को प्रकाशित हुई थी

चीन हवाई क्षेत्र को लेकर उपजे तनाव के बीच बाइडेन करेंगे एशिया क्षेत्र की यात्रा

चीन हवाई क्षेत्र को लेकर उपजे तनाव के बीच बाइडेन करेंगे एशिया क्षेत्र की यात्रा

वाशिंगटन:

चीन के नए घोषित वायु रक्षा क्षेत्र के ऊपर पनपे जबर्दस्त तनाव के बीच अमेरिका के उपराष्ट्रपति जो बाइडेन एशिया की यात्रा पर रवाना हो गए।

व्हाइट हाउस ने अपने बयान में कहा, 'बाइडेन बीजिंग में रुकेंगे और इस दौरान वे क्षेत्र में पनपे तनाव सहित चिंताजनक विषयों पर चर्चा करेंगे।' बयान में यह भी कहा गया है कि जापान, चीन और दक्षिण कोरिया की बाइडेन की इस यात्रा का उद्देश्य अमेरिका को प्रशांत महासागर क्षेत्र में एक शक्ति के तौर पर स्थापित करना है और साथ ही साथ एशिया-प्रशांत क्षेत्र के प्रति अमेरिकी विदेश नीति के पुनर्संतुलन के लिए अपनी प्रतिबद्धता दर्शाना है।

उपराष्ट्रपति के विमान एयर फोर्स-2 ने शाम 5:03 बजे (अंतरराष्ट्रीय समयानुसार 22 बजकर 03 बजे) उड़ान भरी। सात दिसंबर को बाइडेन अमेरिका वापस लौट आएंगे।

वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों ने इस सप्ताह कहा कि बाइडेन चीन के नए घोषित वायु रक्षा क्षेत्र के संबंध में अपनी चिंता जताना चाहते हैं और वे इस कदम के संबंध में चीन के स्पष्ट इरादे जानना चाहते हैं।

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो एबे ने इससे पूर्व कहा था कि जाहिर तौर पर इस तरह की विरोधाभासी प्रतिक्रिया के बाद वे तोकियो में बाइडेन से इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे।

Newsbeep

चीन की गत 23 नवंबर को की गई इस नए क्षेत्र की घोषणा के बाद से क्षेत्र में तनाव फैल गया था क्योंकि इस क्षेत्र में पूर्वी चीन सागर का वह द्वीपसमूह भी आत है जिसे लेकर बीजिंग और तोकियो के बीच विवाद है। इसमें कहा गया है कि इस क्षेत्र से गुजरने के पहले सभी विमानों को अपनी उड़ान योजना के बारे में बताना होगा। तोकियो ने जापानी विमान सेवाओं को अपनी इस तरह की कोई भी योजना सौंपने से मना कर दिया है लेकिन, उधर वाशिंगटन ने कहा है कि उसके अपने अमेरिकी विमानवाहक पोतों से अपेक्षा की जाती है कि वे अन्य देशों द्वारा जारी निर्देशों का पालन करें।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अपनी इस यात्रा के दौरान बाइडेन तीनों देशों के वरिष्ठतम नेताओं से मुलाकात करने के अलावा नागरिक समाज के प्रतिनिधियों से बातचीत करेंगे।