बीएनपी ने पार्टी प्रमुख खालिदा जिया की कैद के खिलाफ पूरे बांग्लादेश में प्रदर्शन किया 

अदालत ने 8 फरवरी को 72 वर्षीय खालिदा जिया को 2.1 करोड़ टका के गबन के आरोप में पांच साल की कठोर कैद की सजा सुनाई थी.

बीएनपी ने पार्टी प्रमुख खालिदा जिया की कैद के खिलाफ पूरे बांग्लादेश में प्रदर्शन किया 

बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया. (फाइल फोटो)

ढाका:

भ्रष्टाचार के मामले में कैद की सजा सुनाए जाने के बाद जेल में बंद बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के हजारों समर्थकों ने अपनी नेता की रिहाई की मांग को लेकर देशभर में जगह-जगह प्रदर्शन किया. ढाका और अन्य बड़े शहरों में बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) के समर्थकों ने अदालत के 8 फरवरी के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन किया. अदालत ने 8 फरवरी को 72 वर्षीय जिया को 2.1 करोड़ टका के गबन के आरोप में पांच साल की कठोर कैद की सजा सुनाई थी.

यह भी पढ़ें :  बांग्लादेश की पूर्व पीएम खालिदा जिया को भ्रष्टाचार के मामले में 5 साल की कैद, नहीं लड़ सकेंगी चुनाव

यह रकम जिया ओरफनेज ट्रस्ट के लिए विदेशी चंदे के रूप में मिली थी. उसी मामले में उनके बेटे तारिक रहमान और चार अन्य को 10 साल कैद की सजा सुनाई गई थी. बीएनपी के इस प्रदर्शन से पहले पिछले हफ्ते पुलिस ने सैकड़ों विपक्षी समर्थकों को कथित रूप से हिरासत में लिया था. 

​आज प्रदर्शन में हिस्सा लेने की कोशिश करने के दौरान शम्सुज्जमां समेत कुछ वरिष्ठ नेता हिरासत में ले लिए गए. कानूनी विशेषज्ञों का कहना है कि यदि सुप्रीम कोर्ट जिया की अपील पर कोई अलग निर्देश नहीं देता है तो कैद की सजा से जिया इस साल दिसंबर में होने वाले अगले आम चुनाव में लड़ने के लिए अयोग्य हो जाएंगी. वैसे तो बीएनपी ने 2014 में आम चुनाव का बहिष्कार किया था, लेकिन ऐसा जान पड़ता है कि वह अगला चुनाव लड़ना चाह रही हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें : बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के मामले की ‘‘निष्पक्ष सुनवाई’’ हो : अमेरिका

सत्तारूढ़ आवामी लीग के प्रवक्ता और स्वास्थ्य मंत्री मोहम्मद नसीम ने कहा, 'वह अदालत के आदेश पर जेल गई हैं. हम चाहते हैं कि बीएनपी कानूनी प्रक्रिया के माध्यम से उन्हें रिहा कराए, ताकि सभी चुनाव में हिस्सा ले पाएं.' गृहमंत्री असदुज्जम्मां खान कमाल से जब पत्रकारों ने पूछा कि क्या जिया को लंबी कैद हो सकती है तो उन्होंने कहा, 'यह कानूनी प्रक्रिया एवं अदालत पर निर्भर करता है, देखते हैं क्या होता है?'