ब्राजील की मीडिया ने राष्ट्रपति बोल्सनारो के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज करने का किया फैसला, बताई ये वजह...

ब्राजील के मीडिया संगठन का कहना है कि वे राष्ट्रपित बोल्सनारो के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज कराने जा रहे हैं.संगठन के मुताबिक राष्ट्रपति बोल्सनारो ने जानबूझकर पत्रकारों की जिंदगी को खतरे में डाला.

ब्राजील की मीडिया ने राष्ट्रपति बोल्सनारो के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज करने का किया फैसला, बताई ये वजह...

राष्ट्रपति बोल्सनारों को संक्रमित होने के बावजूदर मीडिया से मुखातिब होने के लिए घेरा जा रहा है.

नई दिल्ली:

ब्राजील के मीडिया संगठन का कहना है कि वे राष्ट्रपित बोल्सनारो के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज कराने जा रहे हैं.संगठन के मुताबिक राष्ट्रपति बोल्सनारो ने जानबूझकर पत्रकारों की जिंदगी को खतरे में डाला. दरअसल ब्राजील के राष्ट्रपति जैर बोल्सनारो ने मंगलवार को जानकारी दी कि वे कोरोना से पीड़ित हैं. वे कुछ पत्रकारों से बात कर रहे थे  और उनके माइक राष्ट्रपति से दूर थे. मीडिया संगठन के मुताबिक , “बावजूद इसके कि वे कोरोना संक्रमित हैं,राष्ट्रपति बोल्सनारो एक अपराधी की तरह बर्ताव करते रहे और दूसरों की जान को खतरे में डाला.” संगठन ने राष्ट्रपति बोल्सनारो पर डॉक्टरों द्वारा आइसोलेशन में रहने की नसीहत का उल्लंघन करने का भी आरोप लगाया है.

संगठन एबीआई के मुताबिक राष्ट्रपति ने अपराध संहिता के आर्टिकल 131 का उल्लंघन किया है. इस आर्टिकल के तहत उन लोगों पर मामला दर्ज किया जाता है जो दूसरों तक गंभीर बीमारी फैलाते हैं. इसके तहत जुर्माना और जेल दोनों हो सकती हैं. बता दें कि मीडिया से मुखातिब होते हुए बोल्सनारो ने सफेद रंग का एक सामान्य मास्क पहन रखा था , उन्होंने पत्रकारों को बताया कि उनमें गंभीर लक्षण नहीं हैं और डरने की जरूरत नहीं है. राष्ट्रपति ने पत्रकारों से थोड़ा दूर खड़े होने को कहा और कुछ कहने के लिए मास्क उतारा.

राष्ट्रपति ने कहा “मेरे चेहरे की तरफ देखें. ईश्वर का धन्यवाद की मैं ठीक हूं,”.इसके बाद राष्ट्रपति ने दोबारा मास्क पहन लिया. राष्ट्रपति बोल्सनारों को संक्रमित होने के बावजूदर ऐसा करने के लिए घेरा जा रहा है. बता दें कि ब्राजील में कोरोना के 1.6 मिलियन एक्टिव मामले हैं ,लगभग 67,000 लोगों ने कोरोना से जान गंवाई है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com