इराक युद्ध में शामिल होने का तत्कालीन प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर का फैसला गलत था : ब्रिटिश रिपोर्ट

इराक युद्ध में शामिल होने का तत्कालीन प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर का फैसला गलत था : ब्रिटिश रिपोर्ट

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  • इराक युद्ध पर 12 खंड, 26 लाख शब्दों की रिपोर्ट
  • हमले से पहले शांतिपूर्ण विकल्प नहीं तलाशे गए
  • युद्ध में करीब 180 ब्रिटिश सैनिक मारे गए थे
लंदन:

साल 2003 में इराक के तानाशाह सद्दाम हुसैन को अपदस्थ करने के लिए अमेरिका के नेतृत्व में हुए हमले में ब्रिटेन का शामिल होना अंतिम उपाय नहीं था और यह दोषपूर्ण खुफिया जानकारी पर आधारित था। इराक युद्ध को लेकर हुई एक जांच की रिपोर्ट में बुधवार को यह बात कही गई जिसमें जंग में शामिल होने के तत्कालीन प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर के फैसले को दोषपूर्ण ठहराया गया है।

सैन्य कार्रवाई ही अंतिम उपाय नहीं था
साल 2009 में शुरू की गई आधिकारिक जांच के अध्यक्ष जॉन शिलकॉट ने कहा कि ब्रिटेन ने इराक पर हमले में शामिल होने से पहले सभी शांतिपूर्ण विकल्पों को नहीं तलाशा था। पूर्व वरिष्ठ नौकरशाह ने कहा, ''हमने निष्कर्ष निकाला है कि निरस्त्रीकरण  के लिए शांतिपूर्ण विकल्प तलाशने से पहले ब्रिटेन ने इराक पर हमले में शामिल होने का फैसला किया। उस समय सैन्य कार्रवाई अंतिम उपाय नहीं थी।'' उन्होंने यह भी कहा कि इराक के जनसंहार के हथियारों के बारे में फैसले जिस निश्चितता के साथ पेश किये गये, वे न्यायोचित नहीं थे और संघर्ष के बाद की योजना पूरी तरह अपर्याप्त थी।

इराक युद्ध पर उनकी 12 खंड, 26 लाख शब्दों की रिपोर्ट तत्कालीन प्रधानमंत्री गॉर्डन ब्राउन द्वारा जांच का आदेश दिए जाने के सात साल बाद आई है। इराक युद्ध में 2003 से 2009 के बीच करीब 180 ब्रिटिश सैनिक मारे गए थे।

पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर की आलोचना
हुसैन को इराक के राष्ट्रपति पद से हटाने के लिए अमेरिका के साथ जंग में शामिल होने के ब्रिटेन के फैसले के लिए जिम्मेदार माने जाने वाले तत्कालीन प्रधानमंत्री ब्लेयर पर शिलकॉट ने अपनी रिपोर्ट में सख्त फैसला दिया। शिलकॉट की बहुप्रतीक्षित रिपोर्ट के दायरे में 2001 से 2009 के बीच करीब एक दशक में ब्रिटिश सरकार के नीतिगत फैसलों को शामिल किया गया है।

जंग छेड़ने के फैसले में जल्दबाजी की
जांच रिपोर्ट में ब्लेयर द्वारा 28 जुलाई, 2002 को तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति जार्ज डब्ल्यू बुश को भेजे गये एक नोट का उल्लेख है जिससे संकेत मिलता है कि जंग छेड़ने के फैसले पर कितनी जल्दी काम शुरू हो गया। यह नोट इराक पर हमले से कुछ महीने पहले भेजा गया। ब्लेयर ने लिखा, ''जो भी हो, मैं आपके साथ रहूंगा। लेकिन यह कठिनाइयों को साफतौर पर आंकने का समय है। इस पर योजना और रणनीति अंततोगत्वा कठोरतम हैं।''

कैमरन ने कहा, ब्लेयर के फैसले से सबक सीखा जाए
इस बीच बुधवार को रिपोर्ट जारी किए जाने के बाद प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने संसद में कहा कि 2002 में इराक पर हमले के अमेरिका के फैसले में शामिल होने के ब्लेयर के निर्णय से सबक सीखे जाने चाहिए ताकि सुनिश्चित हो कि जंग हमेशा अंतिम उपाय होता है। रिपोर्ट के नतीजों पर अगले सप्ताह दो दिवसीय संसदीय चर्चा की घोषणा करते हुए कैमरन ने हाउस ऑफ कॉमंस में सांसदों से कहा, ''कुछ सबक होते हैं जो हमें सीखने चाहिए और खुलकर सीखते रहने चाहिए। देश को जंग में झोंकना हमेशा अंतिम उपाय होना चाहिए और तभी ऐसा किया जाना चाहिए जब सभी विश्वसनीय विकल्पों को तलाश लिया गया हो।'' उधर ब्लेयर ने दावा किया कि बुधवार को जारी रिपोर्ट उन्हें किसी ‘झूठ या छल-कपट’से बरी करती है।

ब्लेयर ने दी सफाई
लेबर पार्टी के 63 वर्षीय नेता ब्लेयर ने कहा कि वह किसी भी गलती की पूरी जिम्मेदारी लेंगे लेकिन उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि शिलकॉट की 'इराक जांच' स्पष्ट करती है कि कोई जालसाजी नहीं की गई या खुफिया जानकारी का अनुचित उपयोग नहीं किया गया।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सद्दाम को हटाना देशहित में था
उन्होंने कहा, ''मैं बिना किसी बहाने के किसी भी गलती की पूरी जिम्मेदारी लूंगा। उसी समय मैं बताऊंगा कि फिर भी मैं क्यों मानता हूं कि सद्दाम हुसैन को हटाना सही था और मैं क्यों नहीं मानता कि आज पश्चिम एशिया या दुनिया में कहीं भी हम जो आतंकवाद देखते हैं, उसकी वजह यही है।'' ब्लेयर ने कहा, ''सद्दाम हुसैन के खिलाफ सैन्य कार्रवाई के मेरे फैसले से लोग सहमत हैं या नहीं, लेकिन मैंने इसे अच्छे के लिए किया था और मुझे यह देश के हित में लगा।''

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)