NDTV Khabar

कश्मीर को लेकर आया ब्रिटेन के PM का बयान, कहा- यह भारत-पाक के बीच का द्विपक्षीय मुद्दा, हमारा रुख नहीं बदला

यूरोपीय संघ के 23 सांसदों के हालात का जायजा लेने के लिए जम्मू कश्मीर के दो दिवसीय दौरे पर पहुंचने की पृष्ठभूमि में जॉनसन का यह बयान आया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कश्मीर को लेकर आया ब्रिटेन के PM का बयान, कहा- यह भारत-पाक के बीच का द्विपक्षीय मुद्दा, हमारा रुख नहीं बदला

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन.

खास बातें

  1. कश्मीर को लेकर आया ब्रिटेन के PM का बयान
  2. बताया भारत और पाकिस्तान के बीच का द्विपक्षीय मुद्दा
  3. 'ब्रिटेन के रुख में कोई बदलाव नहीं हुआ'
लंदन:

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने बुधवार को संसद में कहा कि कश्मीर पर ब्रिटेन का लंबे समय से रुख रहा है कि यह भारत और पाकिस्तान के बीच का द्विपक्षीय मुद्दा है. इस रुख में कोई बदलाव नहीं हुआ है लेकिन घाटी की स्थिति देश के लिए ‘गहन' चिंता का विषय है. यूरोपीय संघ के 23 सांसदों के हालात का जायजा लेने के लिए जम्मू कश्मीर के दो दिवसीय दौरे पर पहुंचने की पृष्ठभूमि में जॉनसन का यह बयान आया है.

दौरा कर रहे यूरोपीय संघ के सांसदों ने अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने को बुधवार को भारत का आंतरिक मुद्दा बताया और कहा कि वे आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में देश के साथ खड़ा है.

J&K अब राज्य नहीं रहा, आधिकारिक तौर पर बने दो केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख

जॉनसन 12 दिसंबर को आम चुनाव के पहले संसद में आखिरी प्रश्न काल के दौरान कंजरवेटिव पार्टी के सांसद स्टीव बेकर के सवाल का जवाब दे रहे थे. हाउस ऑफ कॉमन्स में उन्होंने सांसदों से कहा, ‘‘कश्मीर के लोगों का कल्याण ब्रिटेन सरकार के लिए गहन चिंता का विषय है.'


रवीश कुमार का ब्लॉग: कश्मीर में विदेशी सांसदों को लाने वाली इंटरनेशनल ब्रोकर कौन है?

जॉनसन ने कहा कि ब्रिटेन सरकार की लंबे समय से यह राय रही है कि कश्मीर मुद्दे को भारत और पाकिस्तान को आपस में सुलझाना है. दक्षिण-पूर्व इंग्लैंड में वायकोंबे से सांसद बेकर जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद से मुखर तरीके से आवाज उठाने वाले सांसदों में है. बेकर के संसदीय क्षेत्र में कश्मीरी मूल के लोगों की अच्छी खासी आबादी है.

टिप्पणियां

ब्लॉग: कश्मीर की दीवार में कोई खिड़की नहीं रहती

VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम: यूरोपियन सांसदों से चुनिंदा लोगों को ही क्यों मिलवाया गया?



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement