चीन-अमेरिका संयुक्त बयान, द. एशिया का जिक्र नहीं

खास बातें

  • अमेरिका ने कहा है कि चीन-अमेरिका संयुक्त बयान में द. एशिया में चीन की भूमिका का जिक्र नहीं होना उसकी नीति में परिवर्तन को परिलक्षित नहीं करता।
वाशिंगटन:

अमेरिका ने कहा है कि चीन-अमेरिका संयुक्त बयान में द. एशिया में चीन की भूमिका का जिक्र नहीं होना उसकी नीति में परिवर्तन को परिलक्षित नहीं करता। इस बारे में विदेश मंत्रालय के प्रवक्त फिलिप क्राउले से जब यह पूछा गया कि 2009 के चीन-अमेरिका संयुक्त बयान को लेकर भारत द्वारा व्यक्त की गई चिंताओं के कारण ताजा संयुक्त बयान में दक्षिण एशिया का जिक्र नहीं किया गया, तो उन्होंने कहा, "नहीं, अमेरिका की नीति में कोई बदलाव नहीं हुआ है।" उन्होंने कहा, "मैं सोचता हूं कि यह चीन के साथ हुई हमारी बातचीत और उसके साथ जारी संबंधों को प्रदर्शित करता है।" राष्ट्रपति बराक ओबामा की चीन यात्रा के दौरान 17 नवंबर 2009 को जारी बयान में "दक्षिण एशिया में शांति, स्थायित्व और विकास के लिए सभी प्रयासों की सराहना की गई थी।" बयान में भारत और पाकिस्तान के बीच सम्बंधों में सुधार और विकास का भी समर्थन करते हुए दक्षिण एशिया से जुड़े मसलों पर बातचीत को मजबूत बनाने की बात कही गई थी। इसके साथ ही दक्षिण एशिया से जुड़े मसलों पर सहयोग बढ़ाने की बात कही गई ताकि क्षेत्र में शांति, स्थायित्व और विकास को बढ़ावा दिया जा सके। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अमेरिका यात्रा के तुरंत बाद ओबामा ने चीन की यात्रा की थी। उक्त चीन-अमेरिका बयान पर भारत ने कड़ी आपत्ति जताई थी।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com