Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

डोकलाम में छोटे स्तर के सैन्य अभियान रिपोर्ट पर चीन ने साधी खामोश

डोकलाम से भारतीय सैनिकों को दो सप्ताह के भीतर हटाने के लिए चीन की ओर से छोटे स्तर के सैन्य अभियान पर विचार किए जाने को लेकर यहां की सरकारी मीडिया में छपे लेख की पृष्ठभूमि में पीएलए के वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी पुष्टि करने से इनकार किया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
डोकलाम में छोटे स्तर के सैन्य अभियान रिपोर्ट पर चीन ने साधी खामोश

चीनी मीडिया के मुताबिक, चीन डोकलाम में भारत के साथ लंबे समय तक सैन्य गतिरोध नहीं रहने देगा

बीजिंग:

डोकलाम से भारतीय सैनिकों को दो सप्ताह के भीतर हटाने के लिए चीन की ओर से छोटे स्तर के सैन्य अभियान पर विचार किए जाने को लेकर यहां की सरकारी मीडिया में छपे लेख की पृष्ठभूमि में पीएलए के वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी पुष्टि करने से इनकार किया, लेकिन कहा कि गतिरोध को बढ़ने से रोकने के लिए भारत को अपने सैनिक बिना शर्त वापस बुलाने चाहिए.

यह भी पढ़ें: चीनी सेना के वरिष्‍ठ कर्नल ने भारत से कहा, 'टकराव से बचना है तो डोकलाम से हटो'

चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता सीनियर कर्नल रेन गुओकियांग ने यहां भारतीय मीडिया के शिष्टमंडल से कहा कि इस तरह की रिपोर्ट मीडिया एवं थिंकटैंक की राय का प्रतिनिधित्व करती हैं. आधिकारिक सूचना के लिए कृपया विदेश मंत्रालय एवं रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ताओं के बयानों का हवाला लीजिए.


यह भी पढ़ें: चीन के एक सैन्य विशेषज्ञ ने कहा, चीन डोकलाम से सैनिकों को नहीं हटाएगा

सरकारी अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ने थिंकटैंक के हवाले से कहा था कि चीन डोकलाम इलाके से भारतीय सैनिकों को हटाने के लिए दो सप्ताह के भीतर छोटे स्तर के सैन्य अभियान पर विचार कर रहा है.अखबार के अनुसार, शंघाई अकैडमी ऑफ सोशल साइंसेज के इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल रिलेशंस के शोधार्थी हू झियोंग ने कहा था कि चीन डोकलाम में भारत के साथ लंबे समय तक सैन्य गतिरोध नहीं रहने देगा और भारतीय सैनिकों को दो सप्ताह के भीतर वहां से हटाने के लिए छोटे स्तर पर सैन्य अभियान चलाया जा सकता है. भारतीय मीडिया के साथ दो घंटे की बातचीत के दौरान कर्नल रेन ने हू के दावों पर टिप्प्णी करने से इनकार किया. 

टिप्पणियां

VIDEO: डोकलाम को लेकर चीन की भारत को धमकी बहरहाल, उन्होंने यह दावा किया कि डोकलाम चीनी क्षेत्र है और बीजिंग के पास इसका ठोस कानूनी एवं ऐतिहासिक साक्ष्य है. भारतीय सैनिकों पर चीनी सीमा में गैरकानूनी ढंग से प्रवेश करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि चीन का रूख यह है कि भारतीय पक्ष को अपने सैनिकों को तत्काल और बिना शर्त वापस बुलाना चाहिए. 
 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली में तनाव के बीच एक बार फिर बोले कपिल मिश्रा, 'जिन्होंने बुरहान वानी और अफजल गुरु को आतंकी नहीं माना, वो...'

Advertisement