NDTV Khabar

एक बार फिर पाकिस्तान के बचाव में खड़ा हुआ चीन, FATF में उसे ब्लैक लिस्ट होने से बचाया

चीन ने एक बार फिर अंतरराष्‍ट्रीय मंच पर पाकिस्‍तान की मदद की है. चीन ने अपने दोस्‍त पाकिस्‍तान को फायनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) में ब्‍लैक लिस्‍ट होने से बचा लिया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एक बार फिर पाकिस्तान के बचाव में खड़ा हुआ चीन, FATF में उसे ब्लैक लिस्ट होने से बचाया

चीन ने फिर किया पाकिस्तान का बचाव (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. चीन ने फिर किया पाकिस्तान का बचाव
  2. पाक को FTAF में ब्लैक लिस्ट होने से बचाया
  3. 27 में से 24 मानकों पर नाकाम रहा पाक
नई दिल्ली:

चीन ने एक बार फिर अंतरराष्‍ट्रीय मंच पर पाकिस्‍तान की मदद की है. चीन ने अपने दोस्‍त पाकिस्‍तान को फायनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) में ब्‍लैक लिस्‍ट होने से बचा लिया है. गौरतलब है कि ग्रे लिस्ट में चल रहे पाकिस्तान को आतंकी फ़ंडिंग पर लगाम लगानी है और इसके लिए 18 महीने का नेगोसिएशन पीरियड है. लेकिन 27 मानकों में से 24 पर अभी भी वह नाकाम है. अब पाकिस्‍तान को अक्टूबर की बैठक तक का समय मिला है. भारत ने उसे ब्लैक लिस्ट करने का मोशन मूव किया था.

फाइनेंसियल एक्शन टास्क फोर्स ने पाकिस्तान को आतंकवादियों को फंड करने वाले संदिग्ध देशों की सूची में डाला

बता दें कि FATF जोकि देशों के आतंकी फंडिंग रोकने पर नजर रखता है, ने फरवरी 2019 में पाक को खरी-खरी सुनाते हुए तीखी चेतावनी भी दी थी. फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स ने कहा था कि लश्कर, जैश और जमात उद दावा जैसे आतंकी संगठनों की फंडिंग पर सही तरीके से लगाम लगाने में पाकिस्तान नाकामयाब रहा है. पाकिस्तान को इन रणनीतिक कमियों से पार पाने के लिए काम करना चाहिए. पाकिस्तान इन आतंकी संगठनों- दाएश, अल कायदा, जमात-उद-दावा और उसी का अंग फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन, लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद, हक्कानी नेटवर्क और तालिबान से जुड़े लोगों से बने खतरे का सही आकलन नहीं दिखाता.


पुलवामा हमला: पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट में डालने के लिए भारत ने बनाया यह प्लान

टिप्पणियां

FATF ने कहा था कि आतंकी फंडिंग को रोकने के लिए जिस एक्शन प्लान की डेडलाइन जनवरी 2019 थी उस पर भी पाकिस्तान ने थोड़ी ही प्रगति दिखाई है. FATF ने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए उसे मई 2019 तक टारगेट पूरे करने के निर्देश दिए थे.  

Video: विदेश मंत्रालय ने पाक मीडिया का दावा खारिज किया



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement