NDTV Khabar

चीन की निष्क्रिय और अनियंत्रित अंतरिक्ष प्रयोगशाला दक्षिणी प्रशांत महासागर में गिरी

चीन के मैन्ड स्पेस इंजीनियरिंग ऑफिस ने बताया कि आठ टन के भार वाली तियांगोंग- एक का ज्यादातर हिस्सा वायुमंडल में ही जल गया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
चीन की निष्क्रिय और अनियंत्रित अंतरिक्ष प्रयोगशाला दक्षिणी प्रशांत महासागर में गिरी

चीन का स्पेस स्टेशन (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. आठ टन के भार वाली है तियांगोंग
  2. ज्यादातर हिस्सा वायुमंडल में ही जल गया
  3. सुबह करीब आठ बजकर15 मिनट प्रवेश किया
बीजिंग: चीन की निष्क्रिय और अनियंत्रित हो चुकी एक अंतरिक्ष प्रयोगशाला सोमवार को धरती के वायुमंडल में वापस लौट आई और दक्षिणी प्रशांत महासागर में जा गिरी. चीन के मैन्ड स्पेस इंजीनियरिंग ऑफिस ने बताया कि आठ टन के भार वाली तियांगोंग- एक का ज्यादातर हिस्सा वायुमंडल में ही जल गया था.

कार्यालय की ओर से बताया गया कि इस प्रयोगशाला ने दक्षिणी प्रशांत के मध्य क्षेत्र में सुबह करीब आठ बजकर15 मिनट( स्थानीय समयानुसार) के आस-पास फिर से प्रवेश किया.

पढ़ें : पृथ्वी पर आज गिर सकता है चीन का अंतरिक्ष स्टेशन, ऑस्ट्रेलिया से लेकर अमेरिका तक अलर्ट

टिप्पणियां
सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने बीजिंग एरोस्पेस नियंत्रण केंद्र और संबंधित संस्थानों के हवाले से बताया कि इस अंतरिक्ष प्रयोगशाला का ज्यादातर हिस्सा वायुमंडल में ही जल गया था.

तियांगोंग- एक का प्रक्षेपण29 सितंबर, 2011 को किया गया था और इसका काम मार्च2016 में समाप्त हो गई थी. इस प्रयोगशाला के भीतर शेन्जोओ-8, शेन्जोओ-9 और शेन्जोओ-10 अंतरिक्षयान भेजे गए थे और इसके जरिए कई ऐसे कार्यों को अंजाम दिया गया जो मानव को साथ ले जाने वाले चीनी अंतरिक्ष कार्यक्रम में महत्त्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement