NDTV Khabar

पृथ्वी पर आज गिर सकता है चीन का अंतरिक्ष स्टेशन, ऑस्ट्रेलिया से लेकर अमेरिका तक अलर्ट

पृथ्वी की ओर तेज गति से बढ़ रहा चीन का ‘तियांगोंग - 1’ अंतरिक्ष स्टेशन कल वायुमंडल में प्रवेश कर जाएगा और इसके ऑस्ट्रेलिया से लेकर अमेरिका तक कहीं भी गिरने की आशंका है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पृथ्वी पर आज गिर सकता है चीन का अंतरिक्ष स्टेशन, ऑस्ट्रेलिया से लेकर अमेरिका तक अलर्ट

पृथ्वी की ओर तेज गति से बढ़ रहा चीन का ‘तियांगोंग - 1’

खास बातें

  1. पृथ्वी पर आज गिर सकता है चीन का अंतरिक्ष स्टेशन
  2. ऑस्ट्रेलिया से लेकर अमेरिका तक अलर्ट
  3. पृथ्वी की ओर तेज गति से बढ़ रहा चीन का ‘तियांगोंग - 1’
बीजिंग:

पृथ्वी की ओर तेज गति से बढ़ रहा चीन का ‘तियांगोंग - 1’ अंतरिक्ष स्टेशन कल वायुमंडल में प्रवेश कर जाएगा और इसके ऑस्ट्रेलिया से लेकर अमेरिका तक कहीं भी गिरने की आशंका है. चाइना मैन्ड स्पेस इंजीनयरिंग ऑफिस (सीएमएसईओ) ने बताया कि अंतरिक्ष प्रयोगशाला (स्पेस लैब) आज पृथ्वी के वायुमंडल में दोबारा प्रवेश करेगा. सीएमएसईओ द्वारा हाल ही में प्रकाशित एक आलोख के मुताबिक ‘तियांगोंग - 1’ वायुमंडल में जल जाएगा और इससे जमीन पर कोई नुकसान पहुंचने की बहुत कम संभावना है. 

यह भी पढ़ें: 270 करोड़ की लागत से तैयार हुए जीसैट 6-ए सैटेलाइट से ISRO का संपर्क टूटा

एक सरकारी समाचार एजेंसी ने सीएमएसईओ के हवाले से बताया कि आठ टन वजन वाले इस स्पेस लैब से विमानन गतिविधि पर कोई प्रभाव पड़ने या जमीन पर कोई नुकसान पहुंचने की संभावना नहीं है. इसने कहा कि लैब के मलबे का बहुत छोटा सा हिस्सा जमीन पर गिरेगा. हांगकांग के साउथ चाइना मार्निंग पोस्ट की खबर के मुताबिक, इसकी मौजूदा दिशा के आधार पर वैज्ञानिकों ने कहा कि स्पेस स्टेशन ऑस्ट्रेलिया से लेकर अमेरिका तक, कहीं भी गिर सकता है. 


यह भी पढ़ें: गुरुवार को भेजे गए कम्युनिकेशन उपग्रह  जीसैट-6 ए में तकनीकी खराबी : सूत्र

टिप्पणियां

इस बीच, अमेरिका के मिशिगन में अधिकारी कोई कसर बाकी नहीं छोड़ रहे हैं. उन्होंने आपात टीमें तैयार रखी हैं. गौरतलब है कि तियांगोंग-1 एक अंतरिक्ष प्रयोगशाला है जिसे सितंबर 2011 में प्रक्षेपित किया गया था. लैब ने जून 2013 में अपना मिशन पूरा कर लिया था. 

VIDEO: जीसैट 6-ए सैटेलाइट से ISRO का संपर्क टूटा
रूसी अंतरिक्ष स्टेशन ‘मीर’ की प्रतिस्पर्धा में चीन द्वारा अपने अंतरिक्ष स्टेशन को 2022 तक अंतिम रूप देने की योजना है. रूसी स्पेस स्टेशन फिलहाल कक्षा में है.
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement