NDTV Khabar

धमकी भरे अंदाज में फिर बोला चीन, कहा- संयम की एक सीमा होती है

चीन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि भारत इस मामले को लंबा खींचने की अपनी रणनीति के भ्रम से बाहर निकले, क्योंकि किसी भी देश को चीनी सेना के आत्मविश्वास और क्षमता को कम नहीं आंकना चाहिए. 

1.7K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
धमकी भरे अंदाज में फिर बोला चीन, कहा- संयम की एक सीमा होती है

सेना की टुकड़ी का निरीक्षण करते राष्ट्रपति शी चिनफिंग.

बीजिंग: 16 जून से डोकलाम पर भारत और चीन के सैनिक आमने-सामने डटे हुए हैं और दोनों ही देशों की सरकारों ने अपने अपने रुख को सही बताते हुए कहा कि पीछे नहीं हटा जाएगा. वहीं, चीन ने एक बार धमकी भरे लहजे में कहा है कि भारत डोकलाम विवाद पर उसके धैर्य की परीक्षा न ले, क्योंकि धैर्य की भी एक सीमा होती है. चीन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि भारत इस मामले को लंबा खींचने की अपनी रणनीति के भ्रम से बाहर निकले, क्योंकि किसी भी देश को चीनी सेना के आत्मविश्वास और क्षमता को कम नहीं आंकना चाहिए. 

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता रेन गुओकियांग ने एक बयान में कहा, "इस घटना के बाद से चीन ने अत्यंत संयम का परिचय दिया है और इस विवाद को हल करने के लिए राजनयिक माध्यम से भारत के साथ संवाद स्थापित करने की कोशिश की. चीनी सशस्त्र बलों ने भी सामान्य द्विपक्षीय संबंधों व क्षेत्रीय शांति और स्थिरता को बनाए रखने के लिए उच्चस्तर का संयम दिखाया है." 

यह भी पढ़ें : युद्ध किसी समस्या का हल नहीं, बातचीत से ही होगा समाधान : डोकलाम पर बोलीं सुषमा स्वराज

रेन कहा, "हालांकि सद्भाव व संयम की भी एक सीमा होती है." रेन ने भारतीय पक्ष से सीमा क्षेत्र में शांति बहाल करने के लिए सही तरीके से स्थिति को शीघ्र सुलझाने का आग्रह किया.  उन्होंने कहा कि चीन की सेना देश की क्षेत्रीय संप्रभुता और सुरक्षा हितों की रक्षा करेगी.  
VIDEO : विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का संसद में डोकलाम पर बयान

चीनी विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि अगर भारत शांति चाहता है तो उसे डोकलाम से अपनी सेना वापस बुला लेनी चाहिए.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement