कोरोनावायरस को लेकर पहली चेतावनी चीन ने नहीं बल्कि WHO के कार्यालय ने दी थी- विश्व स्वास्थ्य संगठन का बयान

डब्ल्यूएचओ ने चीन प्राधिकरणों से दो मौकों पर एक जनवरी और 2 जनवरी को इन मामलों के बारे में जानकारी मांगी थी, जिसकी जानकारी उन्हें 3 जनवरी को दी गई.

कोरोनावायरस को लेकर पहली चेतावनी चीन ने नहीं बल्कि WHO के कार्यालय ने दी थी- विश्व स्वास्थ्य संगठन का बयान

डब्ल्यूएचओ ने ट्रंप के आरोपों से किया इनकार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • डब्ल्यूएचओ- चीन स्थित उसके कार्यालय ने कोरोना को लेकर पहले चेताया
  • डब्ल्यूएचओ ने ट्रंप के आरोपों को किया खारिज
  • महामारी से निपटने में अहम जानकारी देने में नाकाम रहने का आरोप
जेनेवा:

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोनावायरस (COVID) संकट के शुरुआती चरण को लेकर जानकारी को अपडेट किया है. डब्ल्यूएओ ने कहा कि वुहान में निमोनिया के मामलों को लेकर चेतावनी चीन द्वारा नहीं बल्कि चीन में स्थित डब्ल्यूएचओ के कार्यालय की ओर से दी गई थी. WHO ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आरोपों को भी खारिज किया है. ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ पर महामारी को रोकने के लिए जरूरी जानकारी देने में नाकाम रहने और चीन के प्रति नरम रुख अपनाने का आरोप लगाया था. 

महामारी को लेकर डब्ल्यूएचओ के शुरुआती कदमों की आलोचना होने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने आरंभिक टाइमलाइन 9 अप्रैल को जारी की थी. इस क्रोनोलॉजी (कालक्रम) में डब्ल्यूएचओ ने सिर्फ इतना कहा था कि हुबेई प्रांत के वुहान म्युनिसिपल हेल्थ कमीशन ने 31 दिसंबर को निमोनिया के मामलों की जानकारी दी थी. हालांकि, यह स्पष्ट नहीं किया गया था कि यह सूचना चीनी अधिकारियों द्वारा दी गई थी या फिर किसी अन्य स्त्रोत से मिली थी. 

हालांकि, विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से इस हफ्ते जारी नई क्रोनोलॉजी में घटनाओं के बारे में ज्यादा जानकारी दी गई है. इससे संकेत मिलता है कि वह चीन में स्थित डब्ल्यूएचओ का कार्यालय था जिसने 31 दिसंबर को 'वायरल निमोनिया' के मामले को अधिसूचित किया था. निमोनिया के मुद्दे पर वुहान हेल्थ कमीशन की वेबसाइट पर मीडिया के लिए घोषणा होने के बाद यह किया गया था. 

उसी दिन, डब्ल्यूएचओ की महामारी सूचना सेवा ने अमेरिका की अंतरराष्ट्रीय महामारी निगरानी नेटवर्क प्रोमेड की एक रिपोर्ट का संज्ञान लिया था, जिसमें वुहान में अज्ञात कारणों से निमोनिया के मामलों की सूचना दी गई थी. 

इसके बाद डब्ल्यूएचओ ने चीन प्राधिकरणों से दो मौकों पर एक जनवरी और 2 जनवरी को इन मामलों के बारे में जानकारी मांगी थी, जिसकी जानकारी उन्हें 3 जनवरी को दी गई. 

डब्ल्यूएचओ के स्वास्थ्य आपात स्थिति कार्यक्रम के निदेशक मिशेल रियान ने शुक्रवार प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि किसी भी देश के पास किसी मामले की आधाकारिक तौर पर पुष्टि करने और उसकी प्रकृति और कारणों के बारे में एजेंसी को अतिरिक्त जानकारी देने के लिए 24-48 घंटे होते हैं. 

रेयान ने कहा कि एजेंसी  द्वारा रिपोर्ट को सत्यापित करने के लिए जैसे ही कहा गया चीन के अधिकारियों ने तुरंत विश्व स्वास्थ्य संगठन से संपर्क किया.  


अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ से अमेरिका को अलग करने की घोषणा की है. ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन पर चीन के करीबी होने और महामारी को संभालने में नाकाम रहने का आरोप लगाया है. 

वीडियो: देश में कोरोना के 6.25 लाख से ज्यादा मामले, 18213 की मौत

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com