इंसान की त्वचा पर 9 घंटे तक जिंदा रह सकता है कोरोनावायरस, स्टडी में खुलासा

क्लीनिकल इन्फेक्शस डिसीजेज जर्नल में प्रकाशित स्टडी के मुताबिक, कोरोनावायरस की तुलना में फ्लू का वायरस इंसान की त्वचा पर करीब 1.8 घंटे तक जिंदा रह सकता है. 

इंसान की त्वचा पर 9 घंटे तक जिंदा रह सकता है कोरोनावायरस, स्टडी में खुलासा

फ्लू वायरस से ज्यादा समय तक इंसान की त्वचा पर सक्रिया रह सकता है कोरोनावायरस (प्रतीकात्मक तस्वीर)

टोक्यो:

पूरी दुनिया कोरोनावायरस (Coronavirus) के कहर से जूझ रही है. विभिन्न देश कोरोना से मुकाबला करने के लिए COVID-19 वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं. इस बीच, एक के बाद एक कई स्टडी सामने आ रही हैं, जिनमें नए-नए तथ्यों का पता चला रहा है. एक स्टडी में खुलासा हुआ है कि कोरोनावायरस मनुष्य की त्वचा (Skin) पर 9 घंटे तक जीवित रह सकता है. जापानी शोधकर्ताओं ने एक शोध में यह पता लगाया है. उन्होंने कोरोना महामारी से बचने के लिए बार-बार हाथ धोने की भी सलाह दी है. 

क्लीनिकल इन्फेक्शस डिसीजेज जर्नल में प्रकाशित स्टडी के मुताबिक, कोरोनावायरस की तुलना में फ्लू का वायरस इंसान की त्वचा पर करीब 1.8 घंटे तक जिंदा रह सकता है. 

स्टडी में कहा गया है कि "इन्फ्लुएंजा ए वायरस (IAV) के मुकाबले SARS-CoV-2 के मनुष्य की त्वचा पर 9 घंटे तक जीवित रहने की वजह से कॉन्टैक्ट ट्रांसमिशन का जोखिम बढ़ सकता है. जिससे महामारी बढ़ सकती है." स्टडी के मुताबिक, दोनों ही वायरस (Coronavirus और Flu Virus) एथनॉल लगाने के 15 सेकेंड के अंदर निष्क्रिय हो जाते हैं, जिसका इस्तेमाल हैंड सैनिटाइजर में होता है. 

स्टडी में कहा गया है कि  SARS-CoV-2 के स्किन पर ज्यादा समय तक सक्रिय रहने की वजह से संपर्क संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. हालांकि, हाथों को साफ-सुथरा यानी स्वच्छ रखकर इस जोखिम को कम किया जा सकता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

देश में कोरोना से कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 75 लाख के करीब हो गई है. देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के 61, 871 नए मामले सामने आए हैं जबकि 1033 लोगों की मौत हो गई है. पिछले 24 घंटों में 72 हजार 614 लोग इस महामारी से ठीक हुए हैं. यानी नए संक्रमितों की संख्या से ज्यादा ठीक हुए मरीजों की संख्या है. यह एक अच्छा संकेत है.  

वीडियो: आने वाले 2-3 महीनों में कोरोना को लेकर रहना होगा और सर्तक : डॉ रणदीप गुलेरिया