NDTV Khabar

डोनाल्ड ट्रंप से मिलीं नोबेल विजेता नादिया मुराद, मिलते ही ट्रंप ने पूछा - आपको नोबल पुरस्कार क्यों मिला?

नादिया मुराद (Nadia Murad) ने जब ट्रंप को बताया कि कैसे उनकी मां और छह भाइयों की हत्या कर दी गई थी तथा 3,000 यजीदी लापता हैं, ट्रंप ने कहा, “और आपको नोबेल पुरस्कार मिला है? यह अद्भुत है. किस कारण से आपको यह मिला?” मुराद ने कुछ पल के लिए सकते में आ गई और अपनी पूरी कहानी ट्रंप को बताई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
डोनाल्ड ट्रंप से मिलीं नोबेल विजेता नादिया मुराद, मिलते ही ट्रंप ने पूछा - आपको नोबल पुरस्कार क्यों मिला?

नोबेल विजेता ‘यजीदी’ कार्यकर्ता मुराद के काम से बेखबर नजर आए ट्रंप 

वॉशिंगटन:

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप नोबेल पुरस्कार विजेता यजीदी कार्यकर्ता नादिया मुराद (Nadia Murad) के काम एवं योगदान से बेखबर नजर आए. मुराद इराक के यजीदियों की मदद का अनुरोध लेकर ट्रंप से मुलाकात करने पहुंची थीं. 

मुराद इस प्राचीन धर्म की उन हजारों महिलाओं एवं लड़कियों में से एक हैं जिन्हें आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट समूह ने 2014 में इराक के विभिन्न हिस्सों पर कब्जा करने के दौरान अगवा कर लिया था. मुराद इस धार्मिक दमन से उबरे लोगों के समूह में शामिल थीं जिन्होंने विदेश मंत्रालय की एक बड़ी बैठक से इतर ओवल ऑफिस में ट्रंप से मुलाकात की.

उन्होंने जब ट्रंप को बताया कि कैसे उनकी मां और छह भाइयों की हत्या कर दी गई थी तथा 3,000 यजीदी लापता हैं, ट्रंप ने कहा, “और आपको नोबेल पुरस्कार मिला है? यह अद्भुत है. किस कारण से आपको यह मिला?” मुराद ने कुछ पल के लिए सकते में आ गई और अपनी पूरी कहानी ट्रंप को बताई.

हाफिज सईद की गिरफ्तारी पर राष्ट्रपति ट्रम्प ने किया ट्वीट, लिखा-2 साल का दबाव काम आया


उन्हें पिछले साल नोबेल पुरस्कार का संयुक्त विजेता घोषित किया गया था. उन्होंने कहा, “मेरे साथ यह सब होने के बाद भी मैंने हार नहीं मानी. मैंने सबको साफ-साफ बताया कि हजारों यजीदी महिलाओं से बलात्कार किया.'' मुराद ने कहा, “कृपया कुछ करें. यह किसी एक परिवार के बारे में नहीं है.”

ट्रंप जो इराक एवं सीरिया के कई हिस्सों पर कब्जा जमाए स्वयंभू खलीफा को खदेड़ने का श्रेय लेते रहे हैं, उस वक्त भी कहीं गुम नजर आए जब मुराद ने यजीदियों की सुरक्षित वापसी के लिए उनसे इराकी एवं कुर्दिश सरकारों पर दबाव बनाने को कहा.

पाकिस्तान की संसद में उठा हिंदू लड़कियों के जबरन धर्म परिवर्तन का मुद्दा, रोक के लिए प्रस्ताव पास

ट्रंप ने पूछा, “लेकिन आईएसआईएस जा चुका है और अब कुर्दिश और कौन?” मुराद ने यह भी बताया कि यजीदियों ने जर्मनी में सुरक्षा पाने के लिए कैसे खतरनाक मार्गों का सहारा लिया. जर्मनी द्वारा शरणार्थियों का स्वागत करने की ट्रंप आलोचना कर चुके हैं. अमेरिकी नेता उस वक्त भी बेखबर से नजर आए जब उन्होंने रोंहिग्या के एक प्रतिनिधि से मुलाकात की.

लैंडिंग करने के लिए पायलट प्लेन के साथ करता है ऐसा, लोगों की अटक जाती है सांस, देखें VIDEO

इनपुट - भाषा

टिप्पणियां

VIDEO: इराक की स्थिति का आंखों देखा हाल



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement