ट्रम्प ने कश्मीर मुद्दे पर कभी हस्तक्षेप नहीं किया और चीन के विरोध में खड़े रहे - कैम्पेन टीम

अमेरिका (America) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) के प्रचार अभियान से जुड़े अधिकारियों ने कहा कि ट्रम्प ने चीन (China) के विरोध में खड़े होकर भारत का साथ दिया.

ट्रम्प ने कश्मीर मुद्दे पर कभी हस्तक्षेप नहीं किया और चीन के विरोध में खड़े रहे - कैम्पेन टीम

डोनाल्ड ट्रम्प रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार हैं. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • 'अमेरिका ने दिया भारत का साथ'
  • 'कश्मीर मुद्दे पर नहीं किया हस्तक्षेप'
  • अमेरिका में नवंबर में राष्ट्रपति चुनाव
वॉशिंगटन:

अमेरिका (America) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) के प्रचार अभियान से जुड़े अधिकारियों ने कहा कि ट्रम्प ने चीन (China) के विरोध में खड़े होकर भारत का साथ दिया और कश्मीर मामले में कभी हस्तक्षेप नहीं करके एकदम सही रुख अपनाया है. अमेरिका में 3 नवंबर को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में 74 वर्षीय ट्रम्प रिपब्लिकन पार्टी की ओर से एक बार फिर पद पर काबिज होना चाहते हैं. उनका मुकाबला डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार 77 वर्षीय जो बाइडेन (Joe Biden) से है.

ट्रम्प के भारतीय-अमेरिकी समर्थकों ने कहा कि कोविड-19 से पहले ट्रम्प प्रशासन के नेतृत्व में अमेरिका में भारतीय-अमेरिकियों की बेरोजगारी दर में रिकॉर्ड गिरावट आई थी. उन्होंने दावा किया कि राष्ट्रपति ट्रम्प ने विश्व मंच पर भारत का कद बढ़ाया. भारत का साथ देते हुए चीन के विरोध में खड़ा हुए और कश्मीर मुद्दे पर कभी हस्तक्षेप नहीं किया.
‘ट्रम्प विक्ट्री इंडियन-अमेरिकन फाइनेंस कमेटी' के सह-अध्यक्ष अल मैसन ने कहा, ‘‘ संक्षेप में कहें तो, ट्रम्प ने भारत और भारतीय-अमेरिकियों के मामले में सही रुख अपनाया है.''

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के छोटे भाई का 71 साल की उम्र में निधन

ट्रम्प अभियान से जुड़े अधिकारियों ने इस बात पर जोर दिया कि भारतीय-अमेरिकी समुदाय और भारत-अमेरिका संबंधों के मद्देनजर ट्रंप का चुनाव करना ही सही होगा. प्रख्यात भारतीय-अमेरिकी वकील एवं कैलिफोर्निया से रिपब्लिकन पार्टी की वरिष्ठ नेता हरमीत कौर ढिल्लो ने कहा, ‘‘ भारतीय-अमेरिकियों की पसंद स्पष्ट है...और चार साल के लिए ट्रम्प/पेंस.'' ढिल्लो ट्रम्प अभियान के ‘इंडियन वॉयसेज फॉर ट्रम्प' की सह-अध्यक्ष हैं. ट्रम्प प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कोविड-19 से पहले भारतीय-अमेरिकियों की बेरोजगारी दर में करीब 33.33 प्रतिशत की गिरावट आई थी.

US में फ्री में मिलेगी Covid-19 वैक्सीन, लेकिन ट्रंप के आलोचकों को है इस बात का डर

अमेरिकी श्रम सांख्यिकी ब्यूरो के अनुसार भारतीय-अमेरिकी बेरोजगारी दर 2015 में 4.1 प्रतिशत थी, जो 2019 में कम होकर 2.1 प्रतिशत रह गई. ‘इंडियन वॉयसेज फॉर ट्रम्प' की दूसरी सह-अध्यक्ष मृणालिनी कुमारी ने कहा, ‘‘ भारतीय-अमेरिकी यकीनन वह समूह हैं, जिन्हें अमेरिका की आजादी से सबसे ज्यादा फायदा हुआ है, जिसमें मुक्त बाजार, खुशी पाने की आजादी, श्रेष्ठ जीवन के लिए प्रयास करने की आजादी आदि शामिल है. साथ ही, धर्म का पालन करने की व्यक्तिगत स्वतंत्रता.'' भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सितम्बर 2019 में अमेरिकी यात्रा के दौरान भी ट्रम्प ने कहा था, ‘‘हर दिन, भारतीय-अमेरिकी समुदाय हमारे देश को मजबूत बनाने और हमारे भविष्य के निर्माण में मदद कर रहा है.''

Newsbeep

VIDEO: भारत-चीन के बीच विकट स्थिति : राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)