NDTV Khabar

ट्रंप ने ईरान पर कड़े प्रतिबंध लगाने वाले आदेश पर हस्ताक्षर किए 

ट्रंप ने अपने ओवल दफ्तर में पत्रकारों के साथ संक्षिप्त बातचीत में कहा कि हम ईरान या किसी भी देश के साथ संघर्ष नहीं चाहते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ट्रंप ने ईरान पर कड़े प्रतिबंध लगाने वाले आदेश पर हस्ताक्षर किए 

डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान पर लगाए कड़े प्रतिबंध

वाशिंगटन:

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को ईरान पर कड़े प्रतिबंध लगाने वाले एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर कर दिए. उन्होंने कहा कि इन प्रतिबंधों से ईरान के सर्वोच्च नेता और अन्य अधिकारी अमेरिकी क्षेत्र में किसी भी बैंकिंग सुविधा के लाभ नहीं उठा पाएंगे. ईरान ने कहा था कि उसने बृहस्पतिवार को क्षेत्र में अमेरिका के एक ड्रोन को मार गिराया गया है जिसके कुछ दिन बाद ट्रंप ने नए प्रतिबंध लगाने का कदम उठाया है. राष्ट्रपति ट्रंप ने शुक्रवार को जवाबी सैन्य हमले के आदेश को वापस ले लिया था . ट्रंप ने अपने ओवल दफ्तर में पत्रकारों के साथ संक्षिप्त बातचीत में कहा कि हम ईरान या किसी भी देश के साथ संघर्ष नहीं चाहते हैं.

ईरान के साथ बातचीत के लिए कोई पूर्व शर्त नहीं : ट्रंप 


उन्होंने कहा कि मैं आपसे यह कह सकता हूं कि हम ईरान को परमाणु हथियार कभी भी हासिल नहीं करने देंगे. ट्रंप ने कहा कि उन्होंने जिस कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए हैं, वो ईरान पर कड़े प्रतिबंध लगाएगा और ईरान के सर्वोच्च नेता तथा अन्य अधिकारियों को बैंकिग सुविधा के लाभ लेने से रोकेगा. उन्होंने वित्त मंत्री स्टीवन म्नूचिन की मौजूदगी में आदेश पर हस्ताक्षर किए. ट्रंप ने कहा कि मेरे ख्याल से हमने बहुत संयम दिखाया है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम भविष्य में भी सयंम दिखांएगे. उन्होंने कहा कि हम तेहरान पर दबाव बढ़ाना जारी रखेंगे. यह पूछे जाने पर कि अमेरिकी ड्रोन पर ईरानी हमले के जवाब में ये प्रतिबंध लगाए गए हैं तो राष्ट्रपति ने कहा कि आप संभवत: इसे उसमें शामिल कर सकते हैं, लेकिन होने जा रहा था. मैं न्यूयॉर्क में रहने वाले कई ईरानी लोगों को जानता हूं. वे शानदार लोग है.

ईरान परमाणु हथियार की इच्छा त्याग दे तो मैं उसका सबसे अच्छा दोस्त बनूंगा : ट्रंप

गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने रविवार को कहा था कि ईरान के साथ वार्ता के लिए कोई पूर्व शर्त नहीं है, सिवाय इसके कि वह उसे परमाणु हथियार हासिल नहीं करने देंगे. सत्ता में आने के बाद ट्रम्प ने अमेरिका को ईरान परमाणु समझौते से हटा लिया था और तेहरान पर प्रतिबंध लगा दिए थे जो भारत जैसे देशों को ईरान से तेल खरीदने से रोकते हैं. एनबीसी के 'मीट द प्रेस' में जब ट्रंप से सवाल किया गया था कि क्या ईरान के साथ बातचीत के लिए कोई पूर्व शर्त है, तो उन्होंने कहा था कि जहां तक ​​मेरा सवाल है, कोई पूर्व शर्त नहीं है. चक टोड ने ट्रंप से सवाल किया कि क्या आप कहीं पर भी बात करेंगे?  

ईरान परमाणु हथियार की इच्छा त्याग दे तो मैं उसका सबसे अच्छा दोस्त बनूंगा : ट्रंप

ट्रम्प ने कहा था कि देखिये, आपके (ईरान के) पास परमाणु हथियार नहीं हो सकते. यदि आप (ईरान) इसके बारे में बात करना चाहते हैं, तो अच्छा है. अन्यथा आप आने वाले लंबे समय में कमजोर होती अर्थव्यवस्था में रह सकते हैं. ट्रंप ने कहा था कि अमेरिका पश्चिम एशिया में एक मानव रहित ड्रोन को कथित तौर पर मार गिराने के जवाब में ईरान पर हमला करने की कगार पर था. लेकिन उन्होंने आधे घंटे पहले अपनी अनुमति वापस ले ली.

टिप्पणियां

लेखिका ने डोनाल्ड ट्रंप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप, राष्ट्रपति ने कहा फर्जी खबर

ट्रंप ने कहा था कि हमले से पहले उन्हें बताया गया कि हमले की तैयारी है. ट्रंप ने कहा था कि हम हमले के लिए तैयार हैं. मैंने पूछा कितने लोग मारे जाएंगे, ईरानी? उन्होंने कहा, श्रीमान लगभग 150 और मैंने इसके बारे में एक सेकंड के लिए सोचा और कहा, आप जानते हैं कि उन्होंने क्या किया है? उन्होंने एक मानवरहित ड्रोन, या विमान, आप जो भी कहें, उसे मार गिराया है. यहां हम 150 लोगों की मौतों की बात कर रहे हैं. मैं नहीं समझता कि यह सही होगा . (इनपुट भाषा से) 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement