भूमध्यसागर के पास मिला इजिप्टएयर के विमान का मलबा : मिस्र आर्मी

भूमध्यसागर के पास मिला इजिप्टएयर के विमान का मलबा : मिस्र आर्मी

प्रतीकात्मक चित्र

काहिरा:

भूमध्यसागर में गुरुवार को दुर्घटनाग्रस्त हुए इजिप्टएयर के विमान का मलबा मिल गया है। मिस्र की सेना के मुताबिक उसकी सर्च टीम ने शुक्रवार को यह सफलता हासिल की। इस विमान में 26 विदेशियों समेत 66 लोग सवार थे, जो काहिरा जा रहा था। विमान दुर्घटना के कारणों का अब तक पता नहीं चला है।

मिस्र की सेना के प्रवक्ता ने अपने फेसबुक पेज पर कहा, "मिस्र के एयरक्राफ्ट और नौसैनिक जहाजों को अलेक्जेंड्रिया से 290 किमी (180 मील) उत्तर की ओर यात्रियों के निजी सामान और विमान के कुछ हिस्से मिले हैं।'

66 यात्री थे सवार
गौरतलब है कि पेरिस से 26 विदेशियों समेत 66 यात्रियों को लेकर काहिरा जा रहा इजिप्टएयर का एक विमान गुरुवार को मिस्र की वायुसीमा में पहुंचने के बाद रेडार से लापता होने के पश्चात भूमध्यसागर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

आतंकी हमले की आशंका से इंकार नहीं
दुर्घटना के बाद मिस्र के प्रधानमंत्री शेरीफ इस्माइल ने कहा था कि फिलहाल यह कहना जल्दबाजी होगी कि तकनीकी समस्या या फिर आतंकवादी हमले से यह हादसा हुआ। उन्होंने काहिरा हवाई अड्डे पर पत्रकारों से कहा था, 'हम किसी चीज से इनकार नहीं कर सकते।' मिस्र की वायुसीमा में प्रवेश करने के तुरंत बाद एयरबस ए-320 स्थानीय समयानुसार रात पौने तीन बजे रेडार से लापता हो गया। उस समय वह 37,000 फुट की उंचाई पर उड़ रहा था।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

विमान पर मिस्र के 30 नागरिकों के अलावा 15 फ्रांसीसी मुसाफिर, दो इराकी और ब्रिटेन, बेल्जियम, कुवैत, सऊदी अरब, सूडान, चाड, पुर्तगाल, अलजीरिया और कनाडा के एक-एक मुसाफिर सवार थे।

मार्च में अगवा हो गया था एक विमान
मार्च में अलेक्जेन्ड्रिया से काहिरा जा रहे इजिप्टएयर के एक विमान को अगवा कर लिया गया था और इसे साइप्रस की ओर जाने के लिए मजबूर किया गया था। वहां विमान अपहर्ता ने अपनी पूर्व पत्नी से मिलाने की मांग की थी। उसने दावा किया था कि उसने विस्फोटक परिधान पहन रखा है, लेकिन वह फर्जी साबित हुआ था। उसने यात्रियों और चालक दल को मुक्त करने के कुछ घंटे बाद आत्मसमर्पण कर दिया था। उससे पहले, अक्तूबर में इस्लामिक स्टेट ने मिस्र की आरामगाह शर्म अल शेख से रवाना हुए रूसी एयरलाइन्स के एक विमान को बम से उड़ाने की जिम्मेदारी ली थी। इस हमले में विमान में सवार सभी 224 लोग मारे गए थे।