NDTV Khabar

पढ़ने-लिखने में हाथ तंग, तो भी पढ़ सकते हैं ये किताब, देखिए दुनिया की पहली अनोखी Book

किताब में 24 अध्याय हैं जिनमें विजुअल आइकंस का उपयोग कर एक व्यक्ति के एक दिन की कहानी बयां की गई है कि कैसे वह सुबह उठता है, दिनभर का अपना काम निपटाता है, काम के बाद अपने दोस्तों के साथ बाहर जाता है और दिन के आखिर में सो जाता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पढ़ने-लिखने में हाथ तंग, तो भी पढ़ सकते हैं ये किताब, देखिए दुनिया की पहली अनोखी Book

दुनिया की पहली ऐसी किताब, जिसे कोई भी पढ़ सकता है

वेलेंसिया:

एक चीनी कलाकार जू बिंग ने सिर्फ इमॉटिकॉन्स (Emoticons) का उपयोग कर एक किताब लिखी है, जिसका नाम है 'बुक फ्रॉम द ग्राउंड' (Book from the ground). उन्होंने कहा कि इससे सिर्फ ग्राफिक चिन्हों का इस्तेमाल कर एक ग्लोबल भाषा रचने की क्षमता प्रदर्शित होती है.

समाचार एजेंसी एफे की रिपोर्ट के अनुसार चूंकि इमॉटिकॉन सिंबल (Emoticons Symbols) दुनियाभर में उपयोग और साझा किए जाते हैं, इसलिए इस अनोखी किताब को लिखने के पीछे जू का उद्देश्य है कि दुनियाभर के पाठक बिना किसी भाषाई ज्ञान के इस किताब को समझ पाएं. यह किताब अब तक सिर्फ अमेरिका में प्रकाशित हुई है.

जापान में पहली बार कोई चुनाव जीतने वाले भारतीय शख्स बने 'योगी', जानिए इनके बारे में खास बातें

जू ने कहा, "यह पहली किताब है जिसे पूरी दुनिया में सभी लोग पढ़ सकते हैं क्योंकि इसके अनुवाद की जरूरत नहीं है."


एयरपोर्ट पर 19 छिपकलियों के साथ सफर कर रही थी महिला, पुलिस ने पकड़ा और...

उन्होंने कहा कि फिलहाल इमॉटिकॉन यूजर्स विशेष रूप से युवा बेहद सरल चिन्हों का उपयोग कर, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर संवाद करने का आनंद उठा सकते हैं.

पहले जबरन की नसबंदी, अब माफी मांग सरकार दे रही है 20 लाख का मुआवजा

किताब में 24 अध्याय हैं जिनमें विजुअल आइकंस का उपयोग कर एक व्यक्ति के एक दिन की कहानी बयां की गई है कि कैसे वह सुबह उठता है, दिनभर का अपना काम निपटाता है, काम के बाद अपने दोस्तों के साथ बाहर जाता है और दिन के आखिर में सो जाता है.

टिप्पणियां

VIDEO: किताबों ने बदली जिनकी दुनिया, मिलिए उन पाठकों से



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement