महीनों तक जो बाइडेन के साथ उलझने के बाद व्हाइट हाउस में उनके लिए यह चिट्ठी छोड़कर गए डोनाल्ड ट्रंप

जो बाइडेन ने पत्रकारों से कहा कि पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप ने ‘बहुत उदार’ पत्र लिखा है. हालांकि, उन्होंने चिट्ठी की बातों को बहुत निजी बताते हुए उसकी सामग्री साझा करने से इनकार कर दिया.

महीनों तक जो बाइडेन के साथ उलझने के बाद व्हाइट हाउस में उनके लिए यह चिट्ठी छोड़कर गए डोनाल्ड ट्रंप

ट्रंप ने परंपरा के अनुसार जो बाइडेन के लिए ओवल ऑफिस में चिट्ठी छोड़ी है.

खास बातें

  • डोनाल्ड ट्रंप ने आखिरी परंपरा निभाई
  • जो बाइडेन के लिए ओवल ऑफिस में छोड़ी चिट्ठी
  • बाइडेन ने कहा- 'ट्रंप ने छोड़ी उदार चिट्ठी'
वॉशिंगटन:

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने कहा है कि पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस से रवाना होने से पहले ‘ओवल ऑफिस' में उनके लिए ‘बेहद उदार' पत्र छोड़ा है. अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों के पहले अपने कैंपेन में फिर उसके बाद अपनी हार के बाद डोनाल्ड ट्रंप लगातार चुनावों में धांधली के आरोप लगाते रहे. उनके आरोप इतने प्रभावकारी रहे कि जनवरी के पहले हफ्ते में उनके समर्थकों ने अमेरिकी संसद भवन में घुसकर हंगामा किया. हार न मानने को तैयार डोनाल्ड आखिरकार व्हाइट हाउस छोड़ चुके हैं और उन्होंने जो बाइडेन के लिए एक बहुत ही 'उदार पत्र' छोड़कर गए हैं, ऐसा जो बाइडेन का कहना है.

दरअसल, ऐसी परंपरा है कि पूर्व राष्ट्रपति ओवल ऑफिस में नए राष्ट्रपति के लिए रिजॉल्यूट डेस्क पर पत्र छोड़ते हैं. अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ने अपने कार्यकाल के अंत तक कई स्थापित परंपराओं को तोड़ा था, इसलिए बुधवार तक इस पर अनिश्चितता थी कि क्या वह राष्ट्रपति कार्यालय में अपने उत्तराधिकारी जो बाइडेन के लिए पत्र छोड़ने की परंपरा को निभाएंगे. ट्रंप ने बाइडेन की जीत पर औपचारिक रूप से उन्हें बधाई भी नहीं थी.

राष्ट्रपति जो बाइडेन ने बुधवार को व्हाइट हाउस के ओवल ऑफिस में पत्रकारों से कहा, ‘ट्रंप ने ‘बहुत उदार' पत्र लिखा है. चूंकि यह बेहद निजी है इसलिए जब तक मैं उनसे बात नहीं कर लूं तब तक इस बारे में बात नहीं कर सकता. लेकिन यह बहुत उदार है.' राष्ट्रपति ने कहा कि वह ट्रंप से बात करने की सोच रहे हैं.

यह भी पढ़ें : कुर्सी संभालते ही एक्शन में आए राष्ट्रपति जो बाइडेन, पलट दिए डोनाल्ड ट्रंप के ये बड़े फैसले

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने बुधवार को अपने पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि बाइडेन ओवल ऑफिस में जब पत्र पढ़ रहे थे, उस वक्त वह वहीं थीं. हालांकि साकी ने भी पत्र को बेहद ‘निजी' बताते हुए इस संबंध में विस्तार से बताने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा, ‘बाइडेन इस बारे में आप सभी को बता चुके हैं.'


साकी ने कहा, 'पत्र में बहुत उदार और भली बातें लिखी गयी हैं. पत्र को बिना ट्रंप की सहमति के जारी नहीं करना यह उनके (बाइडेन के) विचार को दर्शाता है लेकिन इससे यह संकेत नहीं मिलता कि वह पूर्व राष्ट्रपति को फोन करने वाले हैं.'

अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति बने जो बाइडेन

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)