NDTV Khabar

610 साल पुरानी मस्ज़िद के हुए तीन टुकड़े, 300 पहियों वाली रोबोट मशीन से ले जाया गया नई जगह, देखें PHOTOS

बाढ़ आने के खतरे की वजह से 610 साल पुरानी मस्ज़िद को गाड़ी के जरिए एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट किया गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
610 साल पुरानी मस्ज़िद के हुए तीन टुकड़े, 300 पहियों वाली रोबोट मशीन से ले जाया गया नई जगह, देखें PHOTOS

शहर में बाढ़ के खतरे की वजह से हटाई गई 610 साल पुरानी मस्जिद...

नई दिल्ली:

610 साल पुरानी एक मस्ज़िद (Mosque) को गाड़ी के जरिए एक जगह से दूसरी जगह ले जाया गया. इस मस्ज़िद का वज़न करीब 2,500 टन (करीब 23 लाख किलो) था. इतनी भारी मस्ज़िद को ले जाने के लिए कोई साधारण नहीं बल्कि 300 पहिए वाली एक रोबोट गाड़ी का इंतेज़ाम किया गया. यहां तस्वीरों में देखें कैसे शिफ्ट की गई ये मस्ज़िद.

छह दिसंबर 1992 जब कुछ मिनटों में ही ढहा दी गई थी बाबरी मस्जिद, पढ़ें अयोध्या विवाद का पूरा मामला...

बता दें, ईयूबी मस्ज़िद (Eyyubi Mosque) तुर्की (Turkey) के प्राचीन शहर हसनकेफ में मौजूद थी, जिसे तुर्की के चौथे सबसे बड़े बांध इलीसु (Ilısu) को बनाने के लिए वहां से हटाकर हसनकेफ के न्यू कल्चर पार्क फील्ड में ले जाया गया. हरियत डेली न्यूज़ के मुताबिक ऐसा माना जा रहा था कि हसनकेफ शहर में बांध बनने की वजह से बाढ़ आ सकती है, जिस वजह से ये शहर पूरा डूब सकता है. इस मस्ज़िद के अवाला इस जगह प ईसाईयों और मुस्लिमों के प्रार्थना स्थल के अवशेषों वाली करीब 6,000 गुफाएं भी मौजूद हैं.

 


 

15वीं शताब्दी की इस मस्ज़िद के सिर्फ एक नहीं बल्कि तीन टुकड़े हुए, जिनमें से दो को पहले ही शिफ्ट किया जा चुका है. जिनका वज़न करीब 4,600 टन था. 

 

बता दें, साल 2017 में ही इस मस्ज़िद के लिए नई सुरक्षित जगह बनाई गई, जहां अब इसे 3 हिस्सों में पहुंचा दिया गया है. वहीं, इसका गुंबद आकार का Zeynel Bey Shrine नाम का हिस्सा पहले ही नई जगह पहुंचा दिया गया था. 

 

विदेश से जुड़ी और खबरों के लिए यहां क्लिक करें

टिप्पणियां

VIDEO: क्या चुनाव से पहले ही सबको राम याद आते हैं?


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement