यह ख़बर 16 अप्रैल, 2012 को प्रकाशित हुई थी

काबुल में लड़ाई खत्म, सभी आतंकी ढेर : अफगान अधिकारी

काबुल में लड़ाई खत्म, सभी आतंकी ढेर : अफगान अधिकारी

खास बातें

  • अफगानिस्तान के गृह मंत्रालय के प्रवक्ता सिद्दीक सिद्दीकी ने हालांकि मारे गए लोगों के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी, लेकिन कहा कि 20 से अधिक आतंकी मार गिराए गए।
काबुल:

अफगानिस्तान के सुरक्षा बलों ने समन्वित आत्मघाती हमलों के जरिए राजनयिक इलाके, नाटो के अड्डों तथा अफगान संसद और अन्य सरकारी प्रतिष्ठानों को निशाना बनाने वाले सभी तालिबान हमलावरों को मार गिराया है।

अफगानिस्तान के गृह मंत्रालय के प्रवक्ता सिद्दीक सिद्दीकी ने बताया, ‘‘काबुल में लड़ाई खत्म हो चुकी है...काबुल में सभी तीन स्थानों को खाली करा लिया गया है और सभी आतंकी मारे गए हैं।’’ सिद्दीकी ने मारे गए लोगों के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं मुहैया कराई, लेकिन कहा कि 20 से अधिक आतंकी मारे गए हैं।

उन्होंने बताया कि आत्मघाती हमलों में अफगान पुलिसकर्मी तथा नागरिक भी मारे गए हैं। इन हमलों की जिम्मेदारी तालिबान ने ली है। इससे पूर्व सिद्दीकी ने कहा था कि घायलों में 14 पुलिसकर्मी तथा नौ अफगान नागरिक भी शामिल हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘लड़ाई काबुल के समय के अनुसार आज सुबह सात बजकर 20 मिनट पर समाप्त हुई और अब सभी रास्ते खुले हुए हैं।’’ काबुल तथा तीन अन्य अफगान शहरों पर रविवार को एक साथ कई हमले हुए, जिनमें दूतावासों और नाटो अड्डों को प्रमुख रूप से निशाना बनाया गया। इन हमलों को लेकर तालिबान ने कहा है कि यह उसके आक्रमण की शुरुआत है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

राजधानी की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार अफगान सुरक्षा बलों ने हमले पर जवाबी कार्रवाई की कमान संभाली। जैसे ही आतंकवादियों ने शहर के राजनयिक इलाके पर हमला बोला, उसी समय अमेरिकी, ब्रिटिश, जर्मन तथा जापानी दूतावास परिसरों पर भी गोलीबारी हुई। बताया जाता है कि सभी दूतावासों में लोग सुरक्षित हैं।

आतंकियों ने राजधानी के वजीर अकबर खान इलाके में काबुल स्टार होटल पर हमला बोला और कुछ आतंकियों ने रॉकेट दागते हुए अफगान संसद में घुसने का प्रयास किया, लेकिन सुरक्षा बलों ने उन्हें रोक लिया और पीछे खदेड़ दिया। उस समय संसद का सत्र चल रहा था और कुछ सांसदों ने सुरक्षा बलों के साथ मिलकर आतंकियों का मुकाबला किया। आतंकियों ने तीन प्रांतीय शहरों जलालाबाद, लोगार तथा पकतिया में भी हमले किए।