रूस में नए यूके कोरोना वायरस स्ट्रेन का पहला केस सामने आया

मास्को में अधिकारियों ने दिसंबर में ब्रिटेन से उड़ानें अस्थायी रूप से सस्पेंड कर दी थीं लेकिन इसके बावजूद नए स्ट्रेन का संक्रमण पहुंचा

रूस में नए यूके कोरोना वायरस स्ट्रेन का पहला केस सामने आया

प्रतीकात्मक फोटो.

मॉस्को:

मॉस्को (Moscow) में रविवार को नए यूके कोरोना वायरस स्ट्रेन (UK coronavirus strain) के पहले मामले की पुष्टि की गई है. अधिकारियों द्वारा पहले ही रूस (Russia) में संक्रमण को पहुंचने से रोकने के लिए ब्रिटेन से उड़ानें बंद करने का फैसला लेने के बावजूद रूस में कोरोना के नए स्ट्रेन का पहला केस सामने आ गया. ब्रिटेन से रूस लौट रहा एक व्यक्ति कोरोना के नए स्ट्रेन से संक्रमित पाया गया. रूस के हैल्थ रेगुलेटर के प्रमुख रोस्पोट्रेबनादज़ोर ने सरकार द्वारा संचालित टेलीविजन को यह जानकारी दी है.

वॉचडॉग के प्रमुख अन्ना पोपोवा ने यह नहीं बताया कि व्यक्ति के टेस्ट में वह कोरोनो वायरस संक्रमित पाया गया या किसी अन्य परिस्थिति में इसका पता चला. माना जाता है कि बी117 कोरोना वायरस वायरस पहली बार दक्षिण-पूर्वी इंग्लैंड में पिछले साल के अंत में उभरा था और तब से दुनिया भर के दर्जनों देशों में इसके केस सामने आए हैं.

मास्को में अधिकारियों ने दिसंबर में ब्रिटेन से उड़ानें अस्थायी रूप से सस्पेंड कर दी थीं. नए स्ट्रेन के मद्देनजर दर्जनों अन्य देशों ने भी बाद में इसी तरह के कदम उठाए.


रूस में दुनिया में सबसे अधिक संक्रमण दर वाले देशों में से है. अधिकारियों ने रविवार को कोरोना के लगभग 3.5 मिलियन मामलों की पुष्टि की है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


स्वास्थ्य अधिकारियों ने पिछले महीने स्वीकार किया कि देश में वायरस संक्रमितों की तादाद पहले की रिपोर्ट की तुलना में बहुत अधिक थी जिससे रूस विश्व स्तर पर तीसरा वायरस से सबसे अधिक प्रभावित देश है. क्रेमलिन ने कई अन्य यूरोपीय देशों की तरह लॉकडाउन लगाने के बजाय महामारी का मुकाबला करने के लिए घरेलू स्पुतनिक वी वैक्सीन पर अपनी उम्मीद लगा रखी है.