NDTV Khabar

फुटबाल वर्ल्ड कप : पापा का बेटे के नाम संदेश “काश आप यह मैच देखने के लिए ज़िंदा होते”

मेक्सिको के फुटबाल के दीवाने वकील गिल्बर्ट के साथ एक ऐसी दुखद घटना घटी थी जिसे वह शायद ही कभी भूल पाएं

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
फुटबाल वर्ल्ड कप : पापा का बेटे के नाम संदेश “काश आप यह मैच देखने के लिए ज़िंदा होते”

अपनी पत्नी और बच्चों के साथ गिल्बर्ट.

खास बातें

  1. गिल्बर्ट मेक्सिको के और उनकी पत्नी रस्कीटो अर्जेंटीना की
  2. रूस जाने की तैयारी थी लेकिन रस्कीटो और दो बच्चों की मौत हो गई
  3. गिल्बर्ट ने पत्नी और दोनों बच्चों के पास गले में लटकाकर मैच देखे
नई दिल्ली: मास्को में जर्मनी और मेक्सिको के बीच वर्ल्ड कप का फुटबाल मैच चल रहा था. दोनों टीमों के लिए काफी समर्थन था लेकिन ज्यादातर लोगों की नज़र गिल्बर्टो मार्टिनेज़ पर थी. मार्टिनेज़ मेक्सिको को समर्थन करने के लिए पहुंचे थे. मर्टिनेज़ गले में चार पास टांगे हुए थे. खुद के अलावा उनकी बीवी और दो बच्चों के पास भी वे गले में टांगकर घूम रहे थे. लोगों को समझ नहीं आ रहा था कि गिल्बर्ट अपनी बीवी और बच्चों के पास अपने गले में टांगकर क्यों घूम रहे हैं? मेक्सिको का यह वकील फुटबाल का दीवाना तो था ही उसका परिवार भी फुटबाल को जान से भी ज्यादा प्यार करता था. लेकिन गिल्बर्ट के साथ एक ऐसी दुखद घटना घटी थी जिसे वह शायद ही कभी भूल पाए. 

गिल्बर्ट अपने बच्चों के साथ वर्ल्ड कप मैच देखना चाहते थे. इसके लिए वह पूरी तैयारियां भी कर चुके थे. एयर टिकट के साथ-साथ होटल सब कुछ बुक कर लिए थे. गिल्बर्ट मेक्सिको के रहने वाले थे जबकि उनकी पत्नी रस्कीटो अर्जेंटीना की रहने वाली थीं. दोनों अपनी-अपनी टीमों का खूब समर्थन कर रहे थे. दोनों चाहते थे कि इस वर्ल्ड कप में किसी न किसी स्टेज में मेक्सिको और अर्जेंटीना के बीच मैच हो और दोनों एक साथ स्टेडियम में बैठकर अपनी-अपनी टीम को समर्थन करें. लेकिन किस्मत में कुछ और लिखा हुआ था. वर्ल्ड कप के एक महीने पहले 28 अप्रैल को रस्कीटो अपने भाई से मिलने के लिए मिआमी जाती हैं. उसके साथ दो बच्चे डिएगो (8 साल) और मिया मार्टिनेज़ (6 साल ) भी होते हैं. एक रोड दुर्घटना में रस्कीटो के साथ उसके दो बच्चों की मौत हो जाती है. अब गिल्बर्ट निर्णय लेते हैं कि वे फुटबाल मैच देखने के लिए रूस नहीं जाएंगे लेकिन गिल्बर्टो के साइकोलोजिस्ट उन्हें रूस जाकर मैच देखने की सलाह देते हैं और फिर गिल्बर्टो उनकी बात मान लेते हैं.  

टिप्पणियां
गिल्बर्टो अकेले तो जाते हैं लेकिन अपने साथ अपने बीवी बच्चों की याद ले जाते हैं. न तो वह अपने बीवी बच्चों की फ्लाइट टिकट कैंसिल करते हैं न होटल, न ट्रेन टिकट. फिर जब वह मेक्सिको और जर्मनी के बीच मैच देखने के लिए मैदान जाते हैं तो अपने बीवी और बच्चों के पास भी अपने गले में टांगकर घूमते हैं. इस मैच से पहले मेक्सिको के गोलकीपर ओचोआ सोशल मीडिया डिएगो का उल्लेख करते हुए लिखते हैं “देवदूत मुझे उड़ने में मदद करो.” 17 जून यानी फादर्स डे के दिन जर्मनी और मेक्सिको के बीच मैच होता है और इस ओचोआ के शानदार खेल की वजह से मेक्सिको इस मैच को जीत जाता है. 

VIDEO : मैक्सिको ने जर्मनी को किया पराजित
 
मैच के बाद ओचोआ गिल्बर्टो को एक संदेश भेजते हैं जिसमें लिखा है : गिल्बर्टो, यह डिएगो और आपके परिवार के लिए है” इस संदेश के बाद गिल्बर्टो काफी भावुक हो जाते हैं. इस मैच के बाद गिल्बर्टो अपने फेसबुक पेज पर लिखते हैं ” डियगो, मैं जनता हूं आप यह देखकर बहुत खुश होते, पीड़ा और खुशी के बीच मैं नोचा हुआ हूं. काश आप यह मैच देखने के लिए ज़िंदा होते.”


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement