NDTV Khabar

इस देश में समलैंगिक संबंध हुए वैध, नौकरी ना देने वालों को 2 साल की जेल

1975 में पुर्तगाल से स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद अंगोला की संसद ने पहली बार 23 जनवरी को एक नई दंड संहिता अपनाई, जिससे समलैंगिक संबंधों के खिलाफ बने प्रवाधान को हटाया जा सका. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इस देश में समलैंगिक संबंध हुए वैध, नौकरी ना देने वालों को 2 साल की जेल

अंगोला ने समलैंगिक संबंधों को वैध करार दिया

लुआंडा:

समलैंगिक रिश्तों को आज भी कई देशों के अवैध माना जाता है. LGBT कम्यूनिटी से जुड़े लोग आज भी सड़कों पर अपने अधिकारों के लिए लड़ रहे हैं. इस बीच एक अच्छी खबर अफ्रीका के शहर अंगोला से आई है. सेंट्रल अफ्रीका के शहर अंगोला ने समलैंगिक रिश्तों को वैध करार दे दिया है. मीडिया ने 'ह्यूमन राइट्स वॉच' एजेंसी के हवाले से यह जानकारी दी है. एजेंसी ने यह भी बताया कि अंगोला की सरकार ने ऐसे कानून बनाए जो लोगों के साथ उनके लैंगिक झुकाव या आकर्षण के आधार पर भेदभाव करने पर रोक लगाते हैं.

'सीएनएन' के अनुसार, जो लोग लैंगिक झुकाव या आकर्षण के आधार पर समलैंगिकों को नौकरी देने से मना करते हैं, उन्हें नए कानून के तहत दो साल की जेल हो सकती है. 

'राइट्स' एजेंसी ने कहा कि 1975 में पुर्तगाल से स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद अंगोला की संसद ने पहली बार 23 जनवरी को एक नई दंड संहिता अपनाई, जिससे समलैंगिक संबंधों के खिलाफ बने प्रवाधान को हटाया जा सका. 


उत्तर प्रदेश के हमीरपुर में दो लड़कियों ने रचाई शादी, लेकिन प्रशासन ने नहीं दी मान्यता

'ह्यूमन राइट्स वॉच' ने एक बयान में कहा, "इस पुरातन और बुरी विरासत को अलग रखकर और भेदभाव को दूर कर अंगोला ने समानता को अपनाया है."

समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, गैर सरकारी संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच ने एक बयान में अंगोला के सांसदों के इस कदम की सराहना की है. इसका मुख्यालय न्यूयॉर्क शहर में है.

अंगोला उन अफ्रीकी देशों में शामिल हो गया है जिनमें समलैंगिक संबंधों को वैध करार दिया गया है.

भारत के 'गे प्रिंस' ने अपनी हवेली में खोला LGBT के लिए रिसोर्स सेंटर

टिप्पणियां

VIDEO: समलैंगिक लोगों की दुनिया



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement