NDTV Khabar

ब्रह्मांड में नई दुनिया का पता लगाने के लिए अब इस्तेमाल कीजिए गूगल का आर्टिफिशयल इंटेलीजेंस

नासा के ग्रह खोज अभियान के डेटा का विश्लेषण करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली गूगल की आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस प्रणाली अब सार्वजनिक कर दी गई है जिससे कि ब्रह्मांड में नई दुनिया का पता लगाने में शौकिया वैज्ञानिकों को मदद मिल सकेगी.

62 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
ब्रह्मांड में नई दुनिया का पता लगाने के लिए अब इस्तेमाल कीजिए गूगल का आर्टिफिशयल इंटेलीजेंस

गूगल की आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस प्रणाली अब सार्वजनिक कर दी गई है.

खास बातें

  1. गूगल की आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस प्रणाली अब सार्वजनिक कर दी गई है
  2. नई दुनिया का पता लगाने में शौकिया वैज्ञानिकों को मदद मिल सकेगी.
  3. यह कार्य लगभग 700 तारों के शुरुआती विश्लेषण के जारी किया गया.
नई दिल्ली: नासा के ग्रह खोज अभियान के डेटा का विश्लेषण करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली गूगल की आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस प्रणाली अब सार्वजनिक कर दी गई है जिससे कि ब्रह्मांड में नई दुनिया का पता लगाने में शौकिया वैज्ञानिकों को मदद मिल सकेगी. प्रणाली ने हाल में नासा की केपलर अंतरिक्ष दूरबीन से प्राप्त होने वाले डेटा के विश्लेषण और सबसे भरोसेमंद ग्रह संकेत कों की सटीक पहचान के लिए न्यूरल नेटवर्क को प्रशिक्षण के जरिए सौरमंडल से बाहर दो ग्रहों की खोज की है.

गूगल डुओ ऐप से अब यूज़र भेज पाएंगे वीडियो वॉयसमेल

यह कार्य लगभग 700 तारों के शुरुआती विश्लेषण के जरि किया गया. गूगल ब्रेन टीम के वरिष्ठ सॉफ्टवेयर इंजीनियर क्रिस शैल्यू ने अपने ब्लॉग पोस्ट में लिखा, ‘‘हम केपलर डेटा प्रक्रिया, अपने न्यूरल नेटवर्क मॉडल को प्रशिक्षण और नए अभ्यर्थी संकेतों के बारे में पूर्वानुमान व्यक्त करने के लिए अपनी नियमावली जारी कर रोमांचित हैं.’’ 

टिप्पणियां
व्हाट्सऐप और पेटीएम को चुनौती देने के लिए गूगल तेज़ ऐप में आया चैट फीचर

गूगल की संबंधित आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस प्रणाली अब सार्वजनिक है जिससे अनुसंधानकर्ताओं को अब और ग्रहों की खोज में मदद मिलेगी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement