NDTV Khabar

Father of the Deaf कहे जाने वाले चार्ल्स मिशेल डे लेपे का आज 306वां जन्मदिन, Google ने Doodle बनाकर किया याद

Charles-Michel De l'Epee's 306th Birthday Google Doodle: चार्ल्स मिशेल डे लेपे ने बधिरों (Deaf, जो सुन नहीं सकते) के लिए दुनिया का पहला स्कूल खोला. उन्होंने 1769 में फ्रांस में बधिरों के लिए इस पहले स्कूल की स्थापना की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Father of the Deaf कहे जाने वाले चार्ल्स मिशेल डे लेपे का आज 306वां जन्मदिन, Google ने Doodle बनाकर किया याद

Father of the Deaf यानी 'बधिरों का पिता' का आज 306वां जन्मदिन

नई दिल्ली: Charles Michel De Lepees 306th Birthday - चार्ल्स मिशेल डे लेपे ने बधिरों (Deaf, जो सुन नहीं सकते) के लिए दुनिया का पहला स्कूल खोला. उन्होंने 1769 में फ्रांस में बधिरों के लिए इस पहले स्कूल की स्थापना की, जहां बधिर अपनी साइन लैंग्वेज को पढ़ और समझ सकते थे. इसी वजह से चार्ल्स मिशेल डे लेपे को "Father of the Deaf" यानी 'बधिरों का पिता' कहा जाता है. आज चार्ल्स मिशेल का 306वां जन्मदिन है, जिसे गूगल डूडल बनाकर (Charles-Michel De l'Epee's 306th Birthday Google Doodle) सेलिब्रेट कर रहा है.
 
a67d606

"Father of the Deaf" Charles Michel De Lepees

चार्ल्स मिशेल का जन्म 24 नवंबर 1712 में एक अमीर परिवार में हुआ. उन्होंने लॉ की पढ़ाई की और बाद में लोगों की सेवा में अपना जीवन बिताया. 1789 में फ्रेंच रेवोल्यूशन (French Revolution) की शुरुआत में ही चार्ल्स की मृत्यु पेरिस के चर्च ऑफ सेंट रोच में हुई. उनकी मौत के दो साल बाद ही उन्हें बधिरों के लिए काम करने के सम्मान में  "Declaration of the Rights of Man and of the Citizen" और "Benefactor of Humanity" खिताब से नवाजा गया. 

इस जगह पर है दुनिया की सबसे शुद्ध हवा, ढूंढने से भी नहीं मिलता Pollution

बधिरों के लिए काम करने की प्रेरणा उन्हें पेरिस के स्लम यानी झुग्गियों में रह रही दो बधिर बहनों से मिली, जो आपस में इशारों से एक-दूसरे से बात कर रही थीं. चार्ल्स मिशेल ने उनके इशारों को गौर से समझा और बाद में बधिरों की इसी इशारों की भाषा के लिए जागरुकता बढ़ाई. 

टिप्पणियां
पिता ने Facebook पर लगाई नाबालिग बेटी की बोली, 8 बीवियों के पति ने जीती नीलामी, सौंपा ये सब

चार्ल्स मिशेल ने बधिरों के लिए ना सिर्फ स्कूल खोले, बल्कि टीचर-ट्रेनिंग प्रोग्राम की भी शुरुआत की. चार्ल्स के बनाए हुए बधिर स्कूल आज भी पेरिस के चार प्रमुख डेफ स्कूलों में शामिल है. पेरिस में इनके स्कूल में बधिरों को अब French Sign Language सिखाई जाती है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement