Google ने बनाया इग्नाज सेमलवेस का डूडल, जानिए आज क्यों किया जा रहा है इस महान साइंटिस्ट को याद?

महान साइंटिस्ट और फिजिशियन डॉक्टर इग्नाज सेमलवेस (Ignaz Semmelweis) का डूडल बनाकर उन्हें याद किया है. डॉक्टर सेमलवेस ने ही पहली बार दुनिया को हैंडवॉश के फायदे बताए थे.

Google ने बनाया इग्नाज सेमलवेस का डूडल, जानिए आज क्यों किया जा रहा है इस महान साइंटिस्ट को याद?

गूगल ने डॉक्टर इग्नाज सेमलवेस का डूडल बनाकर उन्हें याद किया है.

खास बातें

  • 1 जुलाई, 1818 को हुआ था इग्नाज सेमलवेस का जन्म
  • डॉक्टर सेमलवेस ने दुनिया को बताए थे हैंडवॉश के फायदे
  • कोरोना वायरस की वजह से हो चुकी हैं 9000 से ज्यादा मौत
नई दिल्ली:

कोरोना वायरस (Coronavirus) दुनियाभर में 9000 से ज्यादा लोगों की जान ले चुका है. 120 से ज्यादा देशों में यह वायरस फैल चुका है. भारत में भी अब तक इसके 173 मामले सामने आ चुके हैं. चार लोगों की मौत हो चुकी है, हालांकि 20 मरीज ठीक भी हुए हैं. पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गुरुवार रात देश को संबोधित करते हुए 22 मार्च को 'जनता कर्फ्यू' लगाए जाने की जानकारी दी और लोगों से सावधानी बरतने और सतर्क रहने की अपील की. यह वायरस और न फैले, इसके लिए दुनियाभर की सरकारें, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और डॉक्टर लोगों को तमाम सलाह दे रहे हैं. उनमें से एक सलाह लगातार हाथ साफ रखने की भी है क्योंकि हाथों पर लगे बैक्टीरिया की वजह से ही हम ज्यादातर बीमारियों का शिकार होते हैं. गूगल (Google) ने भी आज (शुक्रवार) को इस दिशा में महान साइंटिस्ट और फिजिशियन डॉक्टर इग्नाज सेमलवेस (Ignaz Semmelweis) का डूडल बनाकर उन्हें याद किया है. डॉक्टर सेमलवेस ने ही पहली बार दुनिया को हैंडवॉश के फायदे बताए थे.

डॉक्टर इग्नाज सेमलवेस का जन्म 1 जुलाई, 1818 को हंगरी के बुडा में हुआ था. आज यह जगह बुडापेस्ट में आती है. गूगल ने महज कोरोना वायरस की वजह से ही नहीं बल्कि आज के दिन सेमलवेस को एक और वजह से भी याद किया है. दरअसल आज ही के दिन साल 1847 में उन्हें वियना जनरल हॉस्पिटल के मैटरनिटी क्लिनिक में चीफ रेसिडेंट डॉक्टर नियुक्त किया गया था और आज ही के दिन उन्होंने वहां हाथों को साफ करने के फायदे बताए थे.

डॉक्टर इग्नाज सेमलवेस ने यूनिवर्सिटी ऑफ वियना से डॉक्टरेट की पढ़ाई की थी. 19वीं सदी में समूचे यूरोप में 'चाइल्डबेड फीवर' तेजी से फैल रहा था. इस फीवर की वजह से प्रसूताओं की मौत हो रही थी. डॉक्टर सेमलवेस ने इसकी गहन पड़ताल की और काफी समय तक जांच के बाद वह इस नतीजे पर पहुंचे थे कि डॉक्टर ही एक मरीज से दूसरे मरीज के शरीर में इंफेक्शन फैला रहे हैं.

जिसके बाद आदेश जारी किए गए कि किसी भी मरीज को देखने के बाद डॉक्टर अच्छी तरह से अपने हाथ धोएंगे. आदेश जारी हुआ और डॉक्टरों ने इसका पालन भी किया, नतीजतन 'चाइल्डबेड फीवर' के मामलों में तेजी से कमी देखी जाने लगी. प्रसूताएं अब इस रोग से मुक्त हो रही थीं. डॉक्टर सेमलवेस की इस पहल की वजह से उन्हें कई देशों में सम्मानित किया गया. गूगल ने डॉक्टर सेमलवेस पर बनाए डूडल की मदद से एक छोटा सा वीडियो भी तैयार किया है. डूडल पर क्लिक करते ही आप हाथ धोने के सही तरीके देख सकते हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com