NDTV Khabar

सिर्फ जवानी में नहीं इस उम्र में आप रहते हैं सबसे ज्यादा खुश, रिसर्च में हुआ खुलासा

सुख-संपन्नता के सबसे अहम कारकों में अच्छी सेहत, नौकरी और एक जीवनसाथी का होना है लेकिन सुख-समृद्धि का यह स्तर उम्र, आय के स्तर, आस-पड़ोस, अपने घर में रहना आदि के हिसाब से हर व्यक्ति में अलग-अलग होता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सिर्फ जवानी में नहीं इस उम्र में आप रहते हैं सबसे ज्यादा खुश, रिसर्च में हुआ खुलासा

सिर्फ जवानी में नहीं इस उम्र में आप रहते हैं सबसे ज्यादा खुश

लंदन:

खुश रहने के लिए मौका नहीं बल्कि एक उम्र भी होती है. इस बात का खुलासा एक रिसर्च में हुआ है. अमेरिकी थिंक टैंक के एक नये अध्ययन के मुताबिक लोग सबसे ज्यादा खुश 16 साल की उम्र में और फिर 70 की उम्र में होते हैं. ‘रेजोल्युशन फाउंडेशन' ने सबसे अधिक और सबसे कम सुख का आकलन करने के लिए आधिकारिक डेटा का विश्लेषण किया. इसमें पाया गया कि सुख का स्तर किसी की उम्र, आय के स्तर, घर होना और जहां वे रहते हैं इस बात पर बहुत अधिक निर्भर करता है और इनके हिसाब से हर किसी में इसका स्तर अलग-अलग होता है.

Valentine's Day के खास मैसेजेस, पढ़ने के बाद गर्लफ्रेंड/बॉयफ्रेंड I Love You कहे बिना रह नहीं पाएंगे

थिंक टैंक ने कहा, “रिपोर्ट में पाया गया कि सुख-समृद्धि का स्तर आम तौर पर 25-26 साल की उम्र से शुरू होकर 50 साल की उम्र होने से पहले तक गिरने लगता है और फिर 70 साल की उम्र तक यह स्तर एक बार फिर बढ़ना शुरू हो जाता है. सुख-समृद्धि के इस स्तर में खुशी, जीवन संतुष्टि, अपनी अहमियत और चिंतामुक्त जीवन शामिल होता है. केवल उम्र को आधार मान कर देखा जाए तो 16 या 70 की उम्र में इंसान सबसे ज्यादा खुश रहता है.”


Valentine's Day Shayari: इन शायरी से करें अपना प्यार बयां, वो हां ना कह दें फिर कहना...

‘हैप्पी नाऊ?' शीर्षक वाली इस रिपोर्ट में पाया गया कि सुख-संपन्नता के सबसे अहम कारकों में अच्छी सेहत, नौकरी और एक जीवनसाथी का होना है लेकिन सुख-समृद्धि का यह स्तर उम्र, आय के स्तर, आस-पड़ोस, अपने घर में रहना आदि के हिसाब से हर व्यक्ति में अलग-अलग होता है. इस रिपोर्ट के जरिए नीति-निर्माताओं से अपील की गई है कि वे लोगों में सुख-समृद्धि के भाव को बढ़ाने के लिए गहराई से इन कारकों पर गौर करें और फिर प्राथमिकता से इस दिशा में काम करें.

टिप्पणियां

VIDEO: 'भारत आकर खुश होता था राणा'



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement