NDTV Khabar

पाकिस्तान धर्म परिवर्तन मामला : लड़कियों ने शादी करने के लिए खुद से कबूला इस्लाम, अब रहेंगी पतियों के साथ

यह मामला तब सामने आया जब इन दोनों बहनों के पिता और भाई ने एक वीडियो शेयर कर कहा कि इनका अपहरण किया गया है और इनका जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया है. पिता ने यह भी कहा कि दोनों बहनों की उम्र महज 13 और 14 साल है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तान धर्म परिवर्तन मामला : लड़कियों ने शादी करने के लिए खुद से कबूला इस्लाम, अब रहेंगी पतियों के साथ

लड़कियों ने शादी करने के लिए खुद से कबूला इस्लाम

इस्लामाबाद:

इस्लामाबाद उच्च न्यायालय (Islamabad High Court) ने दो हिंदू बहनों के कथित अपहरण, जबरन धर्म परिवर्तन और विवाह के मामले में एक पांच सदस्यीय आयोग की रिपोर्ट के आधार पर दोनों लड़कियों को उनके पतियों के साथ रहने की इजाजत दे दी.

रीना और रवीना नाम की इन लड़कियों और इनके पति सफदर अली और बरकत अली ने इससे पहले याचिका दायर कर संरक्षण की मांग की थी. 

लड़कियों ने अपनी याचिका में कहा कि उनका जन्म सिंध के घोटकी में एक हिंदू परिवार में हुआ लेकिन 'इस्लाम की शिक्षा से प्रभावित होकर' उन्होंने अपना धर्म बदल लिया.

दोनों बहनों ने अपनी याचिका में यह भी कहा कि उन्होंने इस बारे में अपने परिवार को 'जीवन के खतरे के कारण' जानकारी नहीं दी. उन्होंने स्वेच्छा से धर्म परिवर्तन किया और शादी की.

यह मामला तब सामने आया जब इन दोनों बहनों के पिता और भाई ने एक वीडियो शेयर कर कहा कि इनका अपहरण किया गया है और इनका जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया है. पिता ने यह भी कहा कि दोनों बहनों की उम्र महज 13 और 14 साल है.


इसके बाद एक और वीडियो सामने आया जिसमें दोनों लड़कियों को यह कहते देखा गया कि उन्होंने स्वेच्छा से इस्लाम कबूल किया है.

इस आशय की रिपोर्ट आईं कि लड़कियों को सिंध के घोटकी से पंजाब प्रांत के रहीम यार खान ले जाया गया है.

एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, अदालत में सुनवाई के दौरान गृह सचिव ने बताया कि आयोग की सदस्यों मानवाधिकार मंत्री शिरीन मजारी और नेशनल कमीशन आन द स्टेटस आफ वुमेन चेयरपर्सन खावर मुमताज ने लड़कियों और उनके पतियों से अलग-अलग बात की.

मुमताज ने कहा, "लड़कियों ने अपने प्रेमियों से शादी करने के लिए स्वेच्छा से इस्लाम कबूला है."

गृह सचिव ने कहा, "यह जबरन धर्म परिवर्तन का मामला नहीं लग रहा है. ऐसा लगता है कि यह उस इलाके की संस्कृति बन गया है. मेडिकल टेस्ट में प्रमाणित हुआ है कि लड़कियां बालिग हैं और इनकी उम्र 18 और 19 साल है."

टिप्पणियां

विवाद के सामने आने के बाद प्रधानमंत्री इमरान खान ने सिंध और पंजाब की सरकारों से मामले की जांच करने और अगर जबरन धर्म परिवर्तन की बात सही हो तो लड़कियों को तलाशने का आदेश दिया था.

इनपुट - आईएएनएस


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement