NDTV Khabar

इमरान सरकार का फैसला: पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और बेटी मरियम अब पाकिस्तान के बाहर नहीं जा सकेंगे 

सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने बताया कि प्रधानमंत्री खान की अगुवाई में आयोजित मंत्रिमंडल की बैठक में आर्थिक चुनौतियों और खर्च में कटौती से जुड़े उपायों पर भी चर्चा की गयी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इमरान सरकार का फैसला: पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और बेटी मरियम अब पाकिस्तान के बाहर नहीं जा सकेंगे 

इमरान खान ने लिया नवाज शरीफ को लेकर बड़ा

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खानके नवगठित मंत्रिमंडल की पहली बैठक में जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम के नाम ‘एक्जिट कंट्रोल लिस्ट’ में शामिल करने का निर्णय किया गया. इस फैसले के बाद दोनों पाकिस्तान छोड़कर नहीं जा सकेंगे. सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने बताया कि प्रधानमंत्री खान की अगुवाई में आयोजित मंत्रिमंडल की बैठक में आर्थिक चुनौतियों और खर्च में कटौती से जुड़े उपायों पर भी चर्चा की गयी. उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल ने सरकार के भ्रष्टाचार निरोधी अभियान के तहत शरीफ और मरियम के नाम को ‘एक्जिट कंट्रोल लिस्ट’ में शामिल करने का निर्णय किया है. मंत्रिमंडल ने कानून और गृह मंत्रालयों को शरीफ के बेटों हसन और हुसैन एवं पूर्व वित्त मंत्री इसहाक डार के खिलाफ जारी रेड वारंट की तामील करते हुए उन्हें पाकिस्तान लाने का निर्देश दिया.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान से लौटे नवजोत सिंह सिद्धू ने जनरल बाजवा को गले लगाने पर दी यह सफाई...

तीनों राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो की ओर से दर्ज भ्रष्टाचार के मामलों में नामजद हैं और जवाबदेही अदालत इन्हें ‘भगोड़ा अपराधी’ घोषित कर चुकी है. मंत्री ने कहा कि कानून मंत्रालय को शरीफ परिवार के स्वामित्व वाले एवेनफील्ड संपत्ति को लेकर ब्रिटेन की सरकार से संपर्क करने का भी निर्देश दिया गया है. उन्होंने बताया कि मंत्रिमंडल की बैठक में पूर्व सैन्य शासक जनरल परवेज मुशर्रफ के बारे में कोई चर्चा नहीं हुई. मुशर्रफ पिछले साल से दुबई में हैं और कई मामलों में पाकिस्तानी अदालतों ने उनके खिलाफ सम्मन जारी किया है.

यह भी पढ़ें: गले लगने से पहले पाकिस्तान के सेना प्रमुख ने नवजोत सिंह सिद्धू से कही थी ये बात

चौधरी ने बताया कि मंत्रिमंडल की बैठक में यह भी निर्णय किया गया कि बहुत जरूरी नहीं होने पर प्रधानमंत्री अगले तीन महीने तक विदेशी दौरों पर नहीं जाएंगे. विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी अंतरराष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व करेंगे. गौरतलब है कि देश के नए प्रधानमंत्री बनने के बाद इमरान खान ने राष्ट्र के नाम दिए अपने संबोधन में देश की तमाम समस्याओं का जिक्र किया था. उस दौरान उन्होंने फिजुलखर्ची को रोकने की बात भी कही थी. उन्होंने इसकी शुरुआती खुदसे ही करने का फैसला भी किया था.

टिप्पणियां
VIDEO: क्या नए दौर में सुधरेंगे भारत-पाक रिश्ते? 


उन्होंने कहा था कि वह इसे रोकने के लिए प्रधानमंत्री के लिए पहले से निर्धारित आवास की जगह तीन कमरे के घर में रहेंगे. राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि देश के हालात को देखते हुए हम सभी को खर्च में कटौती की जरूरत है. आज हमारे ऊपर रिकॉर्ड कर्ज है. लिहाजा मैंने यह निर्णय लिया है कि मैं प्रधानमंत्री आवास की जगह सैन्य सचिव के तीन बेडरूम वाले आवास में रहूंगा. खान ने राष्ट्र के नाम अपने पहले संबोधन में देश के खर्चे के साथ ही अपने ऊपर होने वाले खर्चे में भी मितव्ययिता बरतने की भी घोषणा की. (इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement