NDTV Khabar

जबरन धर्म परिवर्तन पर बोले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान, इस्लामी इतिहास में इसकी मिसाल नहीं

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने जबरन धर्म परिवर्तन को सोमवार को 'गैर इस्लामिक' बताते हुए कहा कि इस्लामी इतिहास में दूसरों का जबरन धर्म परिवर्तन की कोई मिसाल नहीं है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जबरन धर्म परिवर्तन पर बोले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान, इस्लामी इतिहास में इसकी मिसाल नहीं

इस्लामाबाद में एक कार्यक्रम के दौरान इमरान खान ने कही यह बात

खास बातें

  1. जबरन धर्म परिवर्तन पर बोले पाक पीएम इमरान खान
  2. गैर इस्लामिक है इच्छा के बगैर धर्म को बदलवाना
  3. पाक के मानवाधिकार आयोग ने जताई थी चिंता
इस्लामाबाद:

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने जबरन धर्म परिवर्तन को सोमवार को 'गैर इस्लामिक' बताते हुए कहा कि इस्लामी इतिहास में दूसरों का जबरन धर्म परिवर्तन की कोई मिसाल नहीं है. मीडिया खबरों से यह जानकारी मिली है. राष्ट्रीय अल्पसंख्यक दिवस पर इस्लामाबाद में ऐवान-ए-सदर (राष्ट्रपति भवन) में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए खान ने कहा कि वह पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की सुरक्षा और उनके उपासना स्थलों को विकसित करने की शपथ लेते हैं. डॉन की खबर के मुताबिक खान ने कहा कि पैगंबर ने खुद भी अल्पसंख्यकों को धार्मिक स्वतंत्रता दी थी और उनके उपासना स्थलों को सुरक्षा प्रदान की थी. 

चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर रोवर उतारने के लिए चंद्रयान-2 की सभी गतिविधियां सामान्य हैं : ISRO

उन्होंने कहा 'तो हम किसी को जबरन धर्म परिवर्तन कराने को कैसे अपने हाथ में ले सकते हैं...चाहे (गैर मुस्लिम) लड़कियों से शादी करके या फिर बंदूक के दम या किसी को उसके धर्म की वजह से मारने की (धमकी देकर).' खान ने कहा कि ये सारी चीजें गैर-इस्लामिक हैं, अगर अल्लाह ने पैंगबरों को अपना विश्वास किसी पर थोपने की शक्ति नहीं दी तो फिर हम (ऐसा करने वाले) कौन होते हैं?' उन्होंने कहा कि पैगंबरों (संदेशवाहक) का कर्तव्य सिर्फ अल्लाह के संदेश को फैलाना था. 


घाटी में 10 हजार अतिरिक्त जवानों को भेजे जाने के सवाल पर बोले केंद्रीय मंत्री, ये तैनाती सिर्फ...

टिप्पणियां

खान ने कहा कि उनकी सरकार बाबा गुरू नानक की 550वीं जयंती पर सिख समुदाय के लिए करतारपुर गलियारा खोलने को लेकर प्रतिबद्ध है. उनका यह बयान ऐसे समय में आया है जब अप्रैल में ही पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग ने अपनी सालाना रिपोर्ट में हिंदू और ईसाई लड़कियों के जबरन धर्मांतरण और शादी पर चिंता जताई थी. रिपोर्ट में कहा गया था कि दक्षिणी सिंध प्रांत में पिछले साल 1,000 ऐसे मामले सामने आए थे. 

Video :इमरान खान ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी, की वार्ता की पेशकश



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement