सिख पुलिस अधिकारी के नाम पर ह्यूस्टन के डाकघर का नाम रखने का प्रस्ताव अमेरिकी कांग्रेस में पेश

अमेरिकी कांग्रेस में एक विधेयक लाया गया है जिसमें ह्यूस्टन के एक डाकघर का नाम दिवंगत भारतीय-अमेरिकी सिख पुलिस अधिकारी संदीप सिंह धालीवाल के नाम पर रखने का प्रस्ताव किया गया है.

सिख पुलिस अधिकारी के नाम पर ह्यूस्टन के डाकघर का नाम रखने का प्रस्ताव अमेरिकी कांग्रेस में पेश

दिवंगत भारतीय-अमेरिकी सिख पुलिस अधिकारी संदीप सिंह धालीवाल

खास बातें

  • अमेरिकी कांग्रेस में एक विधेयक लाया गया
  • सिख पुलिस अधिकारी के नाम पर डाकघर का नाम रखने का प्रस्ताव
  • 27 सितंबर को धालीवाल की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी
ह्यूस्टन:

अमेरिकी कांग्रेस में एक विधेयक लाया गया है जिसमें ह्यूस्टन (Houston) के एक डाकघर का नाम दिवंगत भारतीय-अमेरिकी सिख पुलिस अधिकारी संदीप सिंह धालीवाल (Sandeep Singh Dhaliwal) के नाम पर रखने का प्रस्ताव किया गया है. धालीवाल (42) हैरिस काउंटी में शेरिफ के मातहत काम करने वाले पहले सिख अधिकारी थे जिन्हें सिख धर्म की परंपरानुसार दाढ़ी रखने और पगड़ी पहनने की इजाजत दी गई थी. ह्यूस्टन के उत्तर पश्चिम में 27 सितंबर को धालीवाल की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. उस वक्त वह ड्यूटी पर थे. सांसद लिजी फ्लेचर ने यह विधेयक पेश किया. इसमें 315 एडिक्स हॉवेल रोड पर स्थित डाक घर का नाम ‘डिप्टी संदीप सिंह धालीवाल पोस्ट ऑफिस' रखने की मांग की गई है. उन्होंने कहा, ‘‘डिप्टी धालीवाल ने समुदाय का सर्वश्रेष्ठ प्रतिनिधित्व किया है. उन्होंने सेवा के दौरान समानता, संपर्क और समुदाय के लिए काम किया.''

अमेरिका में पुलिस सिख अधिकारी के अंतिम संस्कार में उमड़े हजारों लोग, यूं स्टेडियम में दी श्रद्धांजलि

उन्होंने कहा कि डाकघर का नाम धालीवाल के नाम पर रखने से यह उनकी सेवा और उनके बलिदान तथा हमारे लिए उनकी मिसाल की हमेशा याद दिलाता रहेगा. हैरिस काउंटी के शेरिफ एड गोंजालेज ने कहा, ‘‘डिप्टी धालीवाल हमारे कार्यालय और उस समुदाय के एक समर्पित सदस्य हैं जिसने पूरी अखंडता के साथ सेवा दी है. उनकी इस सेवा और बलिदान को सम्मान देने की खातिर यह विधेयक लाने के लिए सांसद फ्लेचर का आभार.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अमेरिका में भारतीय मूल के पहले सिख पुलिस अधिकारी की गोली मारकर निर्मम हत्या, जांच शुरू 

पिछले महीने ह्यूस्टन पुलिस विभाग ने ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों को उनके धार्मिक चिन्हों को पहनने की इजाजत देने वाली नीति की घोषणा की थी. इसके साथ ही वह ऐसा करने वाली टेक्सास की सबसे बड़ी कानून प्रवर्तन एजेंसी बन गई थी. 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)