NDTV Khabar

भारत, म्यांमार ने किए 11 समझौतों पर हस्ताक्षर

तटीय निगरानी प्रणाली के लिए एक तकनीकी समझौते पर भी हस्ताक्षर किए गए. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारत, म्यांमार ने किए 11 समझौतों पर हस्ताक्षर

(फाइल फोटो)

खास बातें

  1. भारतीय प्रेस परिषद और म्यांमार प्रेस परिषद के बीच भी एक समझौता हुआ है
  2. मोदी मंगलवार को अपनी पहली द्विपक्षीय यात्रा के तहत तीन दिवसीय दौरे पर
  3. म्यांमार के साथ बुधवार को 11 समझौतों पर हस्ताक्षर हुऐ हैं
नेपेडा:

म्यांमार की यात्रा पर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को वहां के राष्ट्रपति हतिन क्याव से मुलाकात की. भारत ने अपनी एक्ट ईस्ट नीति पर जोर देते हुए म्यांमार के साथ बुधवार को 11 समझौतों पर हस्ताक्षर किए. इनमें समुद्री सुरक्षा सहयोग संबंधित समझौते भी शामिल हैं. इसके पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और म्यांमार की स्टेट काउंसिलर आंग सान सू की के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता हुई. समुद्री सुरक्षा सहयोग और व्हाइट शिपिंग इंफार्मेशन साझा करने से संबंधित दो समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए. 

तटीय निगरानी प्रणाली के लिए एक तकनीकी समझौते पर भी हस्ताक्षर किए गए. 


यह भी पढे़ं : दुनिया के ऐसे लोग जो किसी देश के नागरिक नहीं, जानें- कौन हैं रोहिंग्या मुसलमान?

भारत के चुनाव आयोग और म्यांमार के केंद्रीय चुनाव के बीच एक और समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए. सू की की अध्यक्षता वाली नेशनल लीग ऑफ डेमोक्रेसी ने म्यांमार के 2015 के आम चुनाव में भारी बहुमत से जीत दर्ज कर 54 साल बाद नागरिक सरकार बनाई थी. भारत और म्यांमार ने साल 2017 से 2020 तक के लिए सांस्कृतिक आदान-प्रदान के कार्यक्रम पर भी हस्ताक्षर किए. 

भारतीय प्रेस परिषद और म्यांमार प्रेस परिषद के बीच भी एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं. इंडिया-म्यांमार सेंटर फॉर एनहेंसमेंट ऑफ आईटी स्किल और म्यांमार इंस्टीट्यूट ऑफ इंफार्मेशन टेक्न ॉलॉजी एमआईआईटी की स्थापना पर हुए दो समझौता ज्ञापनों की मियाद बढ़ाई गई.

टिप्पणियां

स्वास्थ्य और चिकित्सा के क्षेत्र में और चिकित्सा उत्पादों पर दो अन्य एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए. यामेथिन में महिला पुलिस प्रशिक्षण केंद्र के उन्नयन के लिए सहयोग बढ़ाने पर किए एक अन्य एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए.

VIDEOS : म्यांमार में  रोहिंग्या मुसलमानों पर ज़ुल्म​
मोदी मंगलवार को अपनी पहली द्विपक्षीय यात्रा के तहत तीन दिवसीय दौरे पर भारत की पूर्वी पड़ोसी देश पहुंचे हैं. इसके पहले मोदी 2014 में आसियान (दक्षिण एशियाई देशों के संगठन)-भारत शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए यहां आए थे.(इनपुट आईएएनएस से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement