भारतीय मूल के अमेरिकी प्रोफेसर ने डार्क मैटर खोजने का तरीका विकसित किया

भारतीय मूल के अमेरिकी प्रोफेसर ने डार्क मैटर खोजने का तरीका विकसित किया

न्यूयॉर्क:

भारतीय मूल की एक अमेरिकी प्रोफेसर के नेतृत्व में वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने एक नया तरीका खोजा है जो डार्क मैटर के वर्चस्व वाली छोटी आकाशगंगाओं को ढूंढने में और आकाशगंगा की बाहरी डिस्क में मौजूद तरंगों का ब्योरा देगा।

न्‍यूयॉर्क के रोसेस्टर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में सहायक प्राध्यापक सुकन्या चक्रवर्ती ने आकाशगंगाओं की अंदरूनी संरचना और द्रव्यमान को मापने के लिए आकाशगंगा की डिस्क के तरंगों का इस्तेमाल किया।

Newsbeep

चक्रवर्ती ने यह नतीजे एक संवाददाता सम्मेलन में सात जनवरी को पेश किए। उनके अध्ययन के परिणामों को एस्ट्रोफिजिकल जर्नल लेटर्स को सौंपा गया है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अदृश्य पार्टीकल को डार्क मैटर के नाम से जाना जाता है जिससे ब्रह्मांड का 85 प्रतिशत हिस्सा बना हुआ है। यह रहस्यमय पदार्थ खगोलशास्त्र में एक मूलभूत समस्या का प्रतिनिधित्व करता है क्योंकि यह समझा नहीं जा सका है।