NDTV Khabar

अमेरिका: फ्लोरिडा में गोलीबारी के बीच भारतीय मूल की इस टीचर ने बचाई कई बच्चों की जान

फ्लोरिडा के हाईस्कूल में हुई गोलीबारी के दौरान छात्रों की जान बचाने वाले भारतीय-अमेरिकी मैथ्स की शिक्षिका की तारीफ की जा रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमेरिका: फ्लोरिडा में गोलीबारी के बीच भारतीय मूल की इस टीचर ने बचाई कई बच्चों की जान

फ्लोरिडा के स्कूल में हुई फायरिंग में स्कूली बच्चे सहित 17 लोगों की मौत हुई थी (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. भारतीय मूल की टीचर ने बचाई कई बच्चों की जान
  2. शांति विश्वनाथन है टीचर का नाम
  3. बच्चों को बचाने के लिए शांति विश्वनाथन की तारीफ की जा रही है
न्यूयॉर्क:

फ्लोरिडा के हाईस्कूल में हुई गोलीबारी के दौरान छात्रों की जान बचाने वाले भारतीय-अमेरिकी मैथ्स की शिक्षिका की तारीफ की जा रही है. इस भारतीय अमेरिकी शिक्षिका का नाम शांति विश्वनाथन बताया जा रहा है. इस गोलीबारी में कई विद्यार्थियों सहित कम से कम 17 लोग मारे गये थे. सन सेंटिनल की रिपोर्ट के अनुसार, बुधवार की दोपहर जब दूसरी बार अलार्म बजा, तब शांति विश्वनाथन ने अपनी कक्षा में दरवाजे बंद कर दिए और सभी छात्रों को फर्श पर झुक जाने को कहा. इतना ही नहीं उन्होंने कक्षा के दरवाजे, खिड़कियां बंद कर दीं. उन्होंने ऐसा करके छात्रों को गनमैन की पहुंच से दूर कर दिया.” शांति विश्वनाथन के एक विद्यार्थियों ने बताया कि उन्होंने घटना के दौरान अपनी सूझबूझ से बहुत से बच्चों की जान बचा ली. 

यह भी पढ़ें: अमेरिका: फ्लोरिडा में स्कूल के पूर्व छात्र ने की फायरिंग, स्कूली बच्चों समेत 17 लोगों की मौत


जर्बो ने इस संबंध में पुलिस को बताया कि जब स्वाट टीम मौके पर आई और दरवाजा खोलने के लिए कहा तो विश्वानाथन ने दरवाजा नहीं खोला, उन्हें संदेह था कि यह गनमैन की चाल हो सकती है. इस दौरान उन्होंने स्वाट टीम से कहा कि नीचे से दरवाजे को खटखटाओ और चाबी से इसे खोलो. ऐसा कह कर उन्होंने दरवाजा खोलने से साफ इंकार कर दिया. एक अखबार के मुताबिक, जर्बों के बेटे ब्रायन ने अपनी मां को बताया कि विश्वनाथन द्वारा दरवाजा नहीं खोले जाने के बाद स्वाट टीम का एक सदस्य खिड़की से अंदर आया और कक्षा को खाली कराया.

यह भी पढ़ें: स्कूल में घुसकर 17 लोगों को मारने के बाद McDonald's और सब-वे गया था हमलावर

टिप्पणियां

गौरतलब है कि फ्लोरिडा के हाई स्कूल में  एक 19 वर्षीय पूर्व छात्र ने गोलीबारी की थी, जिसमें 17 शिक्षकों व छात्रों की मौत हो गई थी. हथियारबंद युवक को घटना के एक घंटे के भीतर ही गिरफ्तार कर लिया गया था. यह भयावह घटना बुधवार को पार्कलैंड के मार्जरी स्टोनमेन डगलस हाईस्कूल में हुई थी, जिसे पिछले वर्ष फ्लोरिडा का सबसे सुरक्षित शहर चुना गया था. 

VIDEO: असम : नगा शांति समझौते का विरोध, पुलिस की फायरिंग में दो लोगों की मौत
'द न्यूयॉर्क टाइम्स' के अनुसार, एआर-15 अर्ध-स्वचालित राइफल से लैस सशस्त्र हमलावर की पहचान स्कूल के ही 19 वर्षीय निष्कासित छात्र निकोलस क्रूज के रूप में हुई थी, जिसे अनुशासनात्मक कारणों से स्कूल से निकाल दिया गया था.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement