Khabar logo, NDTV Khabar, NDTV India

जांच से साबित होगा कि रूस के साथ मिलकर नहीं रची कोई साजिश : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

ट्रंप ने एक बयान में कहा, ‘जैसा कि मैंने कई बार कहा है कि पूर्ण जांच से उस बात की पुष्टि हो जाएगी, जो हम पहले से ही जानते हैं कि मेरे चुनाव अभियान और किसी भी विदेशी इकाई के बीच कोई सांठ-गांठ नहीं है. मैं इस मामले को जल्दी ही निष्कर्ष तक पहुंचते देखना चाहता हूं.’

ईमेल करें
टिप्पणियां
जांच से साबित होगा कि रूस के साथ मिलकर नहीं रची कोई साजिश : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

डोनाल्ड ट्रंप की तस्वीर

खास बातें

  1. एफबीआई के पूर्व प्रमुख रॉबर्ट मुलर को विशेष अधिवक्ता के तौर पर नियुक्त की
  2. अभियान और किसी भी विदेशी इकाई के बीच कोई सांठ-गांठ नहीं है
  3. अमेरिकी जनता का पूर्ण विश्वास बनाने के लिए विशेष अधिवक्ता की नियुक्ति
वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रूस के साथ उनके चुनाव अभियान के कथित संबंधों की जांच के लिए की गई विशेष अधिवक्ता की नियुक्ति पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि समग्र जांच से यह साबित होगा कि ऐसी कोई सांठ-गांठ कभी हुई ही नहीं. न्याय मंत्रालय ने कल एफबीआई के पूर्व प्रमुख रॉबर्ट मुलर को विशेष अधिवक्ता के तौर पर नियुक्त किया था. उनका काम पिछले साल हुए राष्ट्रपति चुनाव में रूसी दखल की जांच पर नजर रखना है.
 
ट्रंप ने एक बयान में कहा, ‘जैसा कि मैंने कई बार कहा है कि पूर्ण जांच से उस बात की पुष्टि हो जाएगी, जो हम पहले से ही जानते हैं कि मेरे चुनाव अभियान और किसी भी विदेशी इकाई के बीच कोई सांठ-गांठ नहीं है. मैं इस मामले को जल्दी ही निष्कर्ष तक पहुंचते देखना चाहता हूं.’ उन्होंने कहा, ‘इस बीच, मैं जनता के लिए और हमारे देश के भविष्य के लिए सर्वोच्च महत्व रखने वाले मुद्दों के लिए लड़ना बंद नहीं करूंगा.’ डिप्टी अटॉर्नी जनरल रोड जे रोसेनस्टीन ने कहा, ‘कार्यवाहक अटॉर्नी जनरल होने के नाते, मेरा मानना है कि इस मामले में जिम्मेदारी संभालने के लिए एक विशेष अधिवक्ता को नियुक्त करना जनहित में है.’ इस मामले की विशेष परिस्थितियों पर गौर करते हुए रोसेनस्टीन ने कहा कि इस जांच के निष्कर्ष में अमेरिकी जनता का पूर्ण विश्वास बनाने के लिए विशेष अधिवक्ता की नियुक्ति जरूरी है.
 
उन्होंने कहा, ‘विशेष अधिवक्ता मुलर के पास एक समग्र एवं पूर्ण जांच के लिए जरूरी सभी संसाधन होंगे और मुझे यकीन है कि वह तथ्यों पर गौर करेंगे, नियम लागू करेंगे और एक न्यायसंगत निष्कर्ष तक पहुंचेंगे.’ सदन के स्पीकर पॉल रेयान ने कहा कि प्राथमिकता यह है कि एक समग्र एवं स्वतंत्र जांच सुनिश्चित की जाए, जिसमें तथ्यों पर गौर किया जाए, फिर चाहे वे कहीं भी लेकर जाते हों.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement