सैन्‍य अभ्‍यास के दौरान चूक, ईरानी जंगी जहाज 'अपनी ही' मिसाइल का निशाना बना, 19 नौसैनिकों की मौत

जंगी जहाज एक प्रैक्टिस टारगेट को गंतव्य पर ले जाने और अपने और टारगेट के बीच पर्याप्त दूरी नहीं बनाने के कारण निशाना बन गया. सशस्त्र बलों ने एक बयान में कहा कि हादसे में चालक दल (क्रू मेंबसग) के 19 सदस्‍यों को जान गंवानी पड़ी जबकि 15 लोग घायल हो गए.

सैन्‍य अभ्‍यास के दौरान चूक, ईरानी जंगी जहाज 'अपनी ही' मिसाइल का निशाना बना, 19 नौसैनिकों की मौत

नौसैनिक अभ्‍यास के दौरान ओमान की खाड़ी में यह हादसा हुआ

तेहरान:

ईरान में नौसैनिक अभ्‍यास के दौरान उस समय बड़ा हादसा हो गया जब भूलवश एक जंगी जहाज को देश की ही मिसाइल ने 'हिट' कर दिया. राज्‍य की समाचार एजेंसी और सेना के अनुसार, दुर्घटना में 19 नौसैनिकों की मौत हो गई. राज्‍य की मीडिया एजेंसी की वेबसाइट के अनुसार, यह हादसा रविवार दोपहर को इस्लामिक गणतंत्र के दक्षिणी तट पर स्थित बांदर-ए-जास्क के पास हुआ जिसमें कोणार्क शिप तहस-नहस हो गया. जानकारी के अनुसार, " जंगी जहाज एक प्रैक्टिस टारगेट को गंतव्य पर ले जाने और अपने और टारगेट के बीच पर्याप्त दूरी नहीं बनाने के कारण निशाना बन गया.

सशस्त्र बलों ने एक बयान में कहा कि हादसे में चालक दल (क्रू मेंबसग) के 19 सदस्‍यों को जान गंवानी पड़ी जबकि 15 लोग घायल हो गए. जानकारी में बताया कि गया कि सैन्‍य अभ्‍यास के दौरान वारशिप को अपने ही मिसाइल का निशाना बनना पड़ा.  ओमान की खाड़ी में यह हादसा हुआ. हादसे के बारे में और ज्‍यादा जानकारी नहीं दी गई है. जंगी जहाज को आगे की तकनीकी जांच के लिए 'टो' करके किनारे पर ले जाया गया है. 

समाचार एजेंसी 'तस्नीम' ने इं‍ग्लिश में किए एक ट्वीट में कहा कि कोणार्क को एक अन्य ईरानी युद्धपोत द्वारा दागी गई मिसाइल का शिकार बनना पड़ा.प्रांत के चिकित्सा विश्वविद्यालय के प्रमुख मोहम्मद-मेहरान अमीनिफर्ड ने बताया कि 15 घायलों को सिस्तान और बलूचिस्तान में अस्पताल में भर्ती कराया गया, घायलों में दो को हालत गंभीर बताई गई है. गौरतलब है कि कोणार्क नीदरलैंड में बना एक लॉजिस्टिक सपोर्ट जहाज है. 1979 की इस्लामिक क्रांति से पहले ईरान ने इसे खरीदा था.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com