इजरायली हवाई हमले में आठ की मौत, गाजा में हमास मुख्यालय नष्ट

इजरायली हवाई हमले में आठ की मौत, गाजा में हमास मुख्यालय नष्ट

खास बातें

  • गाजा पर किए गए ताजा इजरायली हवाई हमले में आठ फिलीस्तीनी मारे गए और हमास सरकार का मुख्यालय नष्ट हो गया। इजरायल ने संभावित जमीनी युद्ध के लिए और हजारों रिजर्व सैनिकों को बुला लिया है।
गाजा सिटी:

गाजा पर शनिवार को किए गए इजरायली हवाई हमले में आठ फिलीस्तीनी मारे गए और हमास सरकार का मुख्यालय नष्ट हो गया। इजरायल ने संभावित जमीनी युद्ध के लिए और हजारों रिजर्व सैनिकों को बुला लिया है।

इजरायली टेलीविजन के अनुसार शुक्रवार को फिलीस्तीनी विद्रोहियों की ओर से इजरायली केंद्र बिंदु में रॉकेट दागे जाने के बाद शुक्रवार रात से करीब 180 हवाई हमले किए गए हैं। फिलीस्तीनी स्वास्थ्यकर्मियों का कहना है कि बुधवार को इजरायल की ओर से फिलीस्तीनी गाजा पट्टी में हवाई हमला शुरू किए जाने के बाद से अभी तक गाजा में 38 लोग मारे गए हैं और 345 घायल हुए हैं। नवीनतम हवाई हमलों में मारे गए आठ लोगों में कम से कम चार विद्रोही हैं।

इजरायल सेना ने कहा है कि अभियान शुरू होने के बाद से विद्रोहियों ने सीमापार 580 रॉकेट दागे हैं, जिनमें से 367 दक्षिणी इजरायली हिस्से में गिरे। 222 रॉकेटों को इरोन डोम प्रक्षेपास्त्र रोधी प्रणाली से नष्ट कर दिया गया। इस दौरान तीन इजरायली तथा 10 सैनिकों सहित 13 घायल हो गए।

पुलिस प्रवक्ता लूबा सामरी ने कहा कि शनिवार को एक रॉकेट से चार सैनिक मामूली रूप से घायल हो गए। सुबह 16 रॉकेट हमले गिने गए थे। सेना ने कहा कि उसने गाजा के आसपास सभी मुख्य मार्ग बंद कर दिए हैं और एक बंद सैन्य क्षेत्र घोषित कर दिया है। यह इस बात का नवीनतम संकेत है कि सेना फिलीस्तीनी क्षेत्र में पहला जमीनी हमला शुरू करने को अग्रसर है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सेना के एक प्रवक्ता ने हमास प्रधानमंत्री के बारे में कहा, आईडीएफ (सेना) ने गाजा में इस्माइल हनिया के मुख्यालय को निशाना बनाया है। सेना ने यह भी कहा कि उसने हमास सरकार की अन्य इमारतों, गृह मंत्रालय और पुलिस परिसर तथा विद्रोहियों के प्रशिक्षण स्थलों तथा विद्रोहियों के अन्य स्थलों को निशाना बनाया है।

हनिया सरकार ने कहा कि चार इजरायली हमलों में उसका मुख्यालय पूरी तरह से नष्ट हो गया। इसके साथ ही आसपास के मकान भी क्षतिग्रस्त हुए हैं। घटनास्थल पर मौजूद संवाददाताओं के अनुसार हमलों के भय के चलते खाली इमारतें धराशायी होकर मलबे में तब्दील हो गई हैं, लेकिन किसी के हताहत होने की जानकारी नहीं है।