NDTV Khabar

भारत का विदेश मंत्री स्तरीय बैठक रद्द करने का कदम दुर्भाग्यपूर्ण : कुरैशी 

भारत ने जम्मू कश्मीर में तीन पुलिसकर्मियों की बर्बर हत्या और कश्मीरी आतंकवादी बुरहान वानी का महिमामंडन करने वाले डाक टिकट जारी करने को सुषमा और कुरैशी के बीच बैठक रद्द होने का कारण बताया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारत का विदेश मंत्री स्तरीय बैठक रद्द करने का कदम दुर्भाग्यपूर्ण : कुरैशी 

कुरैशी ने बैठक ने होने पर जताई चिंता

इस्लामाबाद:

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शुक्रवार को उनके तथा विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के बीच न्यूयार्क में प्रस्तावित बैठक भारत द्वारा रद्द करने पर निराशा जतायी और आरोप लगाया कि आंतरिक दबाव के कारण नयी दिल्ली दुर्भाग्यपूर्ण कदम उठाने को मजबूर हुआ. गौरतलब है कि भारत ने जम्मू कश्मीर में तीन पुलिसकर्मियों की बर्बर हत्या और कश्मीरी आतंकवादी बुरहान वानी का महिमामंडन करने वाले डाक टिकट जारी करने को सुषमा और कुरैशी के बीच बैठक रद्द होने का कारण बताया. यह बैठक इस महीने न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक के इतर होने वाली थी. कुरैशी ने विदेश मंत्री स्तर की बातचीत रद्द होने पर निराशा जतायी और कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि भारत ने सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं दी.

यह भी पढ़ें: भारत-पाक के विदेश मंत्रियों की प्रस्तावित बैठक पर अमेरिका बोला- 'शानदार खबर'


भारतीयों ने एक बार फिर शांति का एक अवसर बेकार कर दिया. उन्होंने कहा कि क्षेत्र की शांति एवं स्थिरता के लिए बैठकर बात करना महत्वपूर्ण होता है. ‘द एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ ने कुरैशी के हवाले से कहा कि ऐसा लगता है कि भारत ने अगले वर्ष प्रस्तावित अपने चुनाव के लिए तैयारी शुरू कर दी है. उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि भारत की बातचीत के बजाय अन्य प्राथमिकताएं हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि नयी दिल्ली में एक गुट है जो नहीं चाहता कि पाकिस्तान से बातचीत हो.

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान का अमेरिका पर पलटवार, '30 करोड़ डॉलर सहायता राशि नहीं बल्कि हमारा ही पैसा'

अखबार के अनुसार, उन्होंने यहां तक कह दिया कि अगर भारत बातचीत नहीं चाहता तो पाकिस्तान को भी जल्दी नहीं है. कहा गया कि लेकिन कुरैशी ने दोहराया कि किसी भी मुद्दे को सुलझाने के लिए बातचीत ही एकमात्र तरीका है. उन्होंने कहा कि विश्व को देखना चाहिए कि पाकिस्तान का स्थिति को लेकर सकारात्मक रवैया है जबकि भारत का रुख बहुत स्पष्ट नहीं रहा है. उन्होंने कहा कि हमने कहा है कि हम बातचीत चाहते हैं, लेकिन गरिमापूर्ण तरीके से. न्यूयार्क में प्रस्तावित बातचीत रद्द होने की घोषणा करते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने नयी दिल्ली में कहा कि इन घटनाओं ने पाकिस्तान के नये प्रधानमंत्री इमरान खान का असली चेहरा दुनिया के सामने ला दिया है. (इनपुट भाषा से) 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement