NDTV Khabar

दुनियाभर में 6.8 करोड़ लड़कियों पर खतने का खतरा, जानिए क्यों और कैसे किया जाता है Khatna

खतना नवजात शिशुओं और 15 साल तक की बच्चियों के साथ किया जाता है. नवजात शिशुओं (पुरुष) के लिंग के ऊपरी हिस्से की त्वचा को हटा दिया जाता है. जो फिर दोबारा नहीं आती. वहीं, बच्चियों की योनी के बाहरी हिस्से (क्लिटोरिस) को हटा दिया जाता है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दुनियाभर में 6.8 करोड़ लड़कियों पर खतने का खतरा, जानिए क्यों और कैसे किया जाता है Khatna

दुनियाभर में 2030 तक 6.8 करोड़ लड़कियों पर खतने का खतरा : डब्ल्यूएचओ

जेनेवा:

दुनिया के जिन देशों में खतना-प्रथा (Khatna) प्रचलित है, वहां अगर यह प्रथा इसी प्रकार चलती रही तो 2030 तक 6.8 करोड़ लड़कियां खतने का शिकार बन सकती हैं. यह विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का आकलन है. समाचार एजेंसी एफे के अनुसार, छह फरवरी को संयुक्त राष्ट्र ने अंतर्राष्ट्रीय महिला जननांग खतना पूर्ण असहिष्णुता दिवस (International Day of Zero Tolerance for Female Genital Mutilation) घोषित किया है. इस अवसर, पर डब्ल्यूएचओ ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से महिला जननांग खतना के खिलाफ कदम उठाने की अपील की. संगठन ने आगाह किया कि जहां यह प्रथा प्रचलित है, वहां लड़कियों को इसका ज्यादा खतरा है. 

डब्ल्यूएचओ ने इस अवसर पर एक ट्वीट के जरिए कहा, "महिला जननांग का खतना (Female Genital Mutilation) किए जाने से महिलाओं और लड़कियों के अधिकारों का हनन होता है. इसे अब अवश्य रोका जाना चाहिए."

शायरी से करें Valentine Week की शुरुआत, अपने Love को भेंजे Rose day की ये खास Shayari


डब्ल्यूएचओ के प्रवक्ता तारिक जसारेविक ने जेनेवा में कहा, "संयुक्त राष्ट्र द्वारा सुनिश्चित की गई तिथि छह फरवरी यह याद दिलाती है कि महिला जननांग खतना की प्रथा को समाप्त करने के लिए प्रयास करने की जरूरत है, क्योंकि इससे 20 करोड़ महिलाएं और लड़कियां प्रभावति हैं."

अफ्रीका, मध्यपूर्व और एशिया के करीब 30 देशों में अधिकांश लोग इससे प्रभावित हैं, जहां इसका प्रचलन वहां की सांस्कृतिक व धार्मिक परंपराओं में शामिल है.

7 फरवरी को है Rose Day, जानिए Valentine Week के इस पहले दिन से जुड़ी खास बातें

बता दें, खतना नवजात शिशुओं और 15 साल तक की बच्चियों के साथ किया जाता है. नवजात शिशुओं (पुरुष) के लिंग के ऊपरी हिस्से की त्वचा को हटा दिया जाता है. जो फिर दोबारा नहीं आती. वहीं, बच्चियों की योनी के बाहरी हिस्से (क्लिटोरिस) को हटा दिया जाता है. खतना को मानने वाले समुदायों के अनुसार महिलाओं का खतना करने से उनमें सेक्स की इच्छा को खत्म किया जाता है. इस प्रक्रिया से उनका चाल-चलन नहीं बिगड़ता और वो अपने पति के प्रति ज्यादा वफादार रहती हैं. 

Valentine Week 7 फरवरी से शुरू, जानिए Rose Day से Valentine's Day के बीच के सभी Love Days

इनपुट- आईएएनएस

टिप्पणियां

VIDEO: महिला ने पढ़ाई जुम्‍मे की नमाज, इस फ़ैसले से कुछ उलेमा नाराज़


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement