NDTV Khabar

पाकिस्तान के अंतरिम पीएम शाहिद खाकन अब्बासी का जेल से प्रधानमंत्री बनने तक का सफर…

शाहिद खाकन अब्बासी पाकिस्तान के अंतरिम प्रधानमंत्री चुने गए हैं. विपक्ष अपनी तरफ से कोई एक उम्मीदवार तय नहीं कर पाया था.

83 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तान के अंतरिम पीएम शाहिद खाकन अब्बासी का जेल से प्रधानमंत्री बनने तक का सफर…

पाकिस्तान के अंतरिम प्रधानमंत्री शाहिद खाकन अब्बासी .. .

नई दिल्ली: शाहिद खाकन अब्बासी पाकिस्तान के अंतरिम प्रधानमंत्री चुने गए हैं. पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में अब्बासी के पक्ष में 221 वोट पड़े. विपक्ष अपनी तरफ से कोई एक उम्मीदवार तय नहीं कर पाया था. सईद नवीद कमर को 47 वोट मिले जबकि तीसरे स्थान पर शेख रशीद रहे. अब्‍बासी 45 दिन तक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रहेंगे. नवाज़ शरीफ के भाई शहबाज़ शरीफ के नेशनल असेंबली का सदस्य बनने तक अब्बासी इस पद पर रहेंगे. पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को पनामा केस में दोषी करार देते हुए प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य घोषित कर दिया था. इसके बाद नवाज शरीफ ने इस्तीफ़ा दे दिया था.

नवाज़ शरीफ के करीबी माने जाते हैं अब्बासी
1988 में पाकिस्तान के आम चुनाव में अब्बासी रावलपिंडी से चुनाव जीतकर पहलीबार नेशनल असेम्ब्ली पहुंचे थे. 1990 के चुनाव में अब्बासी दोबारा चुनकर आए. नवाज़ शरीफ ने उन्हें डिफेन्स सेक्रेटरी बनाया था. 1993 में नवाज़ शरीफ को इस्तीफ़ा देना पड़ा था और पाकिस्तान में चुनाव हुआ था. इस चुनाव में अब्बासी पाकिस्तान पीपुल्स लीग (एन) के तरफ से चुनाव लड़े थे और जीते भी थे लेकिन नवाज़ की पार्टी की हार हुई थी. 1997 के आम चुनाव में भी अब्बासी की जीत हुई थी. 1997 में नवाज़ शरीफ जब प्रधानमंत्री बने तब वह अब्बासी को पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन का चेयरमैन बनाया था.

ये भी पढ़ें: ‘पंजाब का शेर’ कहे जाने वाले पीएम नवाज शरीफ का इस्तीफा

सेना के शासन के दौरान जेल में रहे
सन 1999 में पाकिस्तान में फिर मिलिट्री शासन लागू हो गई. सत्ता आर्मी चीफ परवेज़ मुशर्रफ़ के हाथ में चली गई. परवेज़ मुशर्रफ के शासन के दौरान अब्बासी को दो साल तक जेल में रहना पड़ा था. जेल से रिहा होने के बाद अब्बासी 2002 के आम चुनाव लड़े थे लेकिन चुनाव हार गए. 2003 में अब्बासी ने एयर ब्लू प्राइवेट एयरलाइन्स की शुरुआत की. कहा जाता है कि पाकिस्तान एयरलाइन्स को टक्कर देने के लिए अब्बासी ने यह कदम उठाया था. अब्बासी 1988 से लेकर 2013 के बीच अब्बासी सात बार चुनाव लड़ चुके हैं. सिर्फ 2002 के चुनाव को छोड़कर अब्बासी को हर चुनाव में जीत मिली है..
 
ये भी पढ़ें: पाकिस्तान का कोई भी प्रधानमंत्री पूरा नहीं कर पाया अपना पांच साल का कार्यकाल

VIDEO : क्या नवाज शरीफ का राजनैतिक करियर खत्म?

2008 और 2013 में मंत्री बनाए गए थे
2008 के आम चुनाव में अब्बासी का नेशनल असेंबली में वापसी हुई. इस दौरान नवाज़ शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग(एन) और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी मिलजुलकर सरकार बनाई. युसूफ राजा गिलानी प्रधानमंत्री बने थे. इस सरकार में अब्बासी को वाणिज्य मंत्री बनाया गया था लेकिन यह गठबंधन सरकार ज्यादा दिन तक नहीं चल पाया. गिलानी की सरकार से पाकिस्तान मुस्लिम लीग(एन) अपना समर्थन वापस ले लिया था और अब्बासी को मंत्री पद छोड़ना पड़ा था. पाकिस्तान में हुए 2013 के चुनाव में नवाज़ शरीफ प्रधानमंत्री बने थे. इस चुनाव में अब्बासी जीतकर नेशनल असेंबली पहुंचे थे और उन्हें पेट्रोलियम मंत्री बनाया गया था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement