NDTV Khabar

सिक्किम में भारत द्वारा सड़क बनाने से रोकने पर सीमा पर भंग हो सकती है शांति-चीन

चीन की सेना ने आरोप लगाया कि भारत की फौज सिक्किम में चीन-भारत सीमा पर एक सड़क के निर्माण को रोक रही है और इस कदम से सीमा पर अमन चैन को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा है.

152 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सिक्किम में भारत द्वारा सड़क बनाने से रोकने पर सीमा पर भंग हो सकती है शांति-चीन

चीन द्वारा सिक्कम में सड़क बनाने का भारत ने कड़ा विरोध किया है (प्रतीकात्मक चित्र)

खास बातें

  1. भारत, सिक्किम में चीनी सीमा पर सड़क के निर्माण को रोक रहा है
  2. भारत और पीएलए के बीच टकराव के बाद सीमा पर पसरा तनाव
  3. चीनी सैनिकों ने सीमा पर भारत की तरफ बंकरों को तबाह किया
बीजिंग: चीन की सेना ने आरोप लगाया कि भारत की फौज सिक्किम में चीन-भारत सीमा पर एक सड़क के निर्माण को रोक रही है और इस कदम से सीमा पर अमन चैन को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा है.

चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने एक बयान में कहा कि भारत की आजादी के बाद भारत की सरकार ने बार-बार लिखित में इस बात की पुष्टि की है कि दोनों पक्षों को सिक्किम सीमा पर कोई आपत्ति नहीं है. चीन द्वारा अपने क्षेत्र में सड़क का निर्माण पूरी तरह संप्रभुता का कृत्य है और भारत को इसमें दखल देने का कोई अधिकार नहीं है.

इसमें कहा गया कि सड़क निर्माण को रोकने की भारत की कोशिश से सीमा पर अमन चैन गंभीर रूप से प्रभावित हुआ है. चीन ने कहा, 'हमें उम्मीद है कि भारत अब चीन के साथ मिलकर काम करेगा और सीमा की समस्या को जटिल करने वाली कोई कार्वाई नहीं करेगा तथा द्विपक्षीय संबंधों के सही तरह विकास की रफ्तार को संयुक्त रूप से बनाये रखा जाएगा.'

सिक्किम के एक सुदूरवर्ती क्षेत्र में भारतीय सेना और पीएलए के जवानों के बीच टकराव के बाद तनाव पसर गया था. इसके बाद चीनी सैनिकों ने सीमा पर भारत की तरफ बंकरों को तबाह किया.

नई दिल्ली में सूत्रों ने कहा कि दोनों सेनाओं के बीच टकराव के बाद जून के पहले सप्ताह में सिक्किम के डोका ला जनरल इलाके में लाल्टेन चौकी के नजदीक यह वाकया हुआ. इससे चीन-भारत की सीमा पर तनाव पैदा हो गया. सूत्रों ने कहा कि टकराव के बाद पीएलए के जवान भारतीय सरजमीं में घुस आए और उन्होंने सेना के दो अस्थाई बंकरों को तबाह कर दिया. 1962 के भारत-चीन युद्ध के बाद यह इलाका भारतीय सेना और आईटीबीपी के अधीन है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
152 Shares
(यह भी पढ़ें)... फोन के बिना पत्रकारिता और संसार

Advertisement