मलेशियाई विमान में सवार यात्रियों के परिजन अफ्रीका जाकर खुद प्लेन का मलबा खोजेंगे

मलेशियाई विमान में सवार यात्रियों के परिजन अफ्रीका जाकर खुद प्लेन का मलबा खोजेंगे

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  • पता लगाएंगे कि लापता विमान के साथ आखिर हुआ क्या
  • मार्च 2014 में कुआलालंपुर से बीजिंग के लिए उड़ा विमान अब तक लापता
  • विमान में 239 लोग सवार थे
कुआलालंपुर:

मलेशियाई एयरलाइंस के दो साल पहले लापता हुए विमान एम एच 370 पर सवार यात्रियों के परिजनों ने आज कहा है कि विमान का मलबा खोजने के लिए वे मेडागास्कर जाएंगे और यह पता लगाने की कोशिश करेंगे कि लापता विमान के साथ आखिर हुआ क्या था.

जांचकर्ताओं को किसी विमान के छह टूटे-फूटे हिस्से मिले थे जो संभवत: उसी जेट विमान के थे जिसने मार्च 2014 में कुआलालंपुर से बीजिंग के लिए उड़ान भरी थी . उस विमान में 239 लोग सवार थे और यह एकाएक गायब हो गया था.

लापता विमान में सवार लोगों के परिवारों ने एक संगठन वॉइस 370 बनाया है. इस संगठन का कहना है कि अब तक जो भी मलबा मिला है वह अफ्रीका के पूर्वी तट के आस-पास ही मिला है.

इस संगठन ने एक वक्तव्य में कहा, ‘‘जो कुछ भी मिला है वह महत्वपूर्ण खोज है उसके बावजूद किसी भी जिम्मेदार पक्ष ने व्यवस्थित और सुगठित तलाश की कोशिश नहीं की. जिसके चलते हमारे पास खुद इसके जवाब तलाशने के सिवा और कोई विकल्प नहीं रह जाता है.’’ माना जाता है कि विमान दक्षिणी हिंद महासागर में दुघर्टनाग्रस्त हुआ था और इसकी तलाश यहीं पर की जा रही है लेकिन अब तक इसका कोई नतीजा नहीं निकला है और यह तलाशी अभियान भी जल्द ही बंद हो सकता है.

ग्रेस सबाथिराई नाथन, जिनकी मां एनी डेजी उस विमान में सवार थीं, ने बताया कि वह तीन अन्य मलेशियाई लोगों, चीन के दो व्यक्तियों और फ्रांस के एक व्यक्ति के साथ मेडागास्कर जाएंगी. उन्होंने बताया कि समूह तीन दिसंबर से 11 दिसंबर तक के इस दौरे का खर्च खुद उठा रहा है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com