NDTV Khabar

मालदीव में इमरजेंसी: पूर्व राष्ट्रपति और चीफ जस्टिस गिरफ्तार, भारत की नसीहत, माली जाने से बचें

मालदीव में राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने इमरजेंसी का एलान कर दिया है. राष्ट्रपति के एलान के तुरंत बाद पूर्व राष्ट्रपति मौमून अब्दुल गयूम को गिरफ़्तार कर लिया गया. वो मौजूदा राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन को पद से हटाए जाने के लिए अभियान चला रहे थे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मालदीव में इमरजेंसी: पूर्व राष्ट्रपति और चीफ जस्टिस गिरफ्तार, भारत की नसीहत, माली जाने से बचें

मालदीव में इमरजेंसी के बाद पूर्व राष्ट्रपति और चीफ जस्टिस गिरफ्तार

खास बातें

  1. पूर्व राष्ट्रपति मौमून अब्दुल गयूम को गिरफ़्तार कर लिया गया
  2. भारत सरकार ने मालदीव की गैर-जरूरी यात्रा नहीं करने की सलाह दी
  3. तनावपूर्ण स्थिती को देखते हुए सतर्क रहने की सलाह भी दी गई है.
माले: मालदीव में राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने इमरजेंसी का एलान कर दिया है. राष्ट्रपति के एलान के तुरंत बाद पूर्व राष्ट्रपति मौमून अब्दुल गयूम को गिरफ़्तार कर लिया गया. वो मौजूदा राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन को पद से हटाए जाने के लिए अभियान चला रहे थे. 

अरब देशों ने कतर के साथ राजनयिक रिश्ते तोड़े, क्षेत्र में पैदा हुआ बड़ा राजनयिक संकट

देश के चीफ जस्टिस अब्दुल्ला सईद और सुप्रीम कोर्ट के एक अन्य न्यायाधीश को भी गिरफ्तार कर लिया गया है. सुरक्षा बलों के माले स्थित शीर्ष अदालत परिसर पहुंचने के बाद पुलिस ने एक संक्षिप्त बयान में कहा कि न्यायमूर्ति अब्दुल्ला सईद और न्यायमूर्ति अली हमीद के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप हैं.

इमरजेंसी घोषित होने के बाद भारत सरकार ने अपने नागरिकों को मालदीव की गैर-जरूरी यात्रा नहीं करने की सलाह देते हुए सर्कुलर जारी किया है. इसके अलावा मालदीव में रह रहे भारतीयों को भी तनावपूर्ण स्थिती को देखते हुए सतर्क रहने की सलाह दी गई है. सरकार ने मालदीव में रह रहे भारतीय नागरिकों को बाज़ार और सार्वजनिक जगहों पर सतर्क रहने को कहा है. 

रोहिंग्या संकट क्षेत्रीय सुरक्षा को खतरे में डाल सकती है : संयुक्त राष्ट्र

मौमून अब्दुल गयूम को उनके अलग हो चुके सौतेले भाई और राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन द्वारा देश में आपातकाल लगाए जाने के कुछ देर बाद ही गिरफ्तार कर लिया गया. पूर्व राष्ट्रपति की बेटी युम्ना मौमून ने ट्विटर पर बताया कि 80 वर्षीय पूर्व राष्ट्रपति को राजधानी माले स्थित उनके घर से ले जाया गया.

टिप्पणियां
मौमून अब्दुल गयूम 2008 में देश का पहला लोकतांत्रिक चुनाव होने से पहले 30 वर्ष तक देश के राष्ट्रपति रहे. मौमून अब्दुल विपक्ष के साथ थे और अपने सौतेले भाई को पद से हटाए जाने को लेकर अभियान चला रहे थे.

VIDEO: क्या भारत-मालदीव के रिश्ते सहज और बेहतर होंगे?
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement