Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

तलाक पर चल रही थी सुनवाई, पति ने पत्नी से लड़ाई करने के लिए जज से मांगी तलवार

ऑस्ट्रोम ने कहा कि उसकी पूर्व पत्नी चाहे तो वह अपनी जगह युद्ध के लिए अपने वकील को चुन सकती है. ऑस्ट्रोम ने कोर्ट में बताया कि, ''संयुक्त राष्ट्र में स्पष्ट रूप से युद्ध से मुकदमे को खत्म करने पर कभी प्रतिबंध या रोक नहीं लगाई गई है''.

तलाक पर चल रही थी सुनवाई, पति ने पत्नी से लड़ाई करने के लिए जज से मांगी तलवार

शख्स ने कोर्ट में पू्र्व पत्नी से लड़ाई के लिए तलवार की मांग रखी.

खास बातें

  • डेविड ने अपनी पत्नी से तलाक पर समझौते से पहले रखी लड़ाई की मांग
  • डेविड ने कहा कि उनकी पूर्व पत्नी ने उन्हें कानूनी तौर पर नष्ट कर दिया है
  • इस वजह से वह युद्ध कर के मामले में समझौता करना चाहते हैं
कैंसास:

अक्सर ही तलाक के वक्त दोनों पक्षों के बीच लड़ाई की स्थिति उत्पन्न हो जाती है लेकिन हाल ही में सामने आए एक मामला किसी दूसरे कारण से ही सुर्खियों में बना हुआ है. दरअसल, यूएस के शख्स ने कोर्ट में मांग की है कि उसे अपनी पूर्व पत्नी से तलाक पर समझौते के लिए तलवार से युद्ध करने की इजाजत दी जाए. डेस मोइनेस रजिस्टर की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कैंसास (Kansas) के डेविड ऑस्ट्रोम (David Ostrom) ने पूर्व पत्नी ब्रिजेट ऑस्ट्रोम (Bridgette Ostrom) के साथ शेल्बी काउंटी कोर्ट में चल रहे मुकदमे में जापानी तलवार से युद्ध करने की इजाजत मांगी है. 

यह भी पढ़ें: बिना किसी वजह घर छोड़कर दुबई भाग गई पत्नी, शादी के 21 साल बाद पति बोला

कोर्ट के दस्तावेजों के अनुसार डेविड ऑस्ट्रोम का दावा है कि उनकी पूर्व पत्नी ने उन्हें "कानूनी तौर पर नष्ट कर दिया है". शेल्बी काउंटी जिला कोर्ट में दायर उनकी प्रस्तावना के मुताबिक डेविड अपनी पूर्व पत्नी के वकील मैथ्यू हडसन द्वारा उनके साथ किए गए व्‍यवहार से निराश थे. इस वजह से वह अब युद्ध के जरिए समझौता करना चाहते हैं. डेविड ने जिला अदालत के न्यायाधीश से युद्ध की तैयारी और तलवार ढूंढने के लिए 12 हफ्तों का समय मांगा है.

ऑस्ट्रोम ने कहा कि उसकी पूर्व पत्नी चाहे तो वह अपनी जगह युद्ध के लिए अपने वकील को चुन सकती है. ऑस्ट्रोम ने कोर्ट में युद्ध की प्रस्तावना रखते हुए न्यायाधीश क्रेग ड्रेस्मिअर को बताया कि, ''संयुक्त राष्ट्र में स्पष्ट रूप से युद्ध से मुकदमे को खत्म करने पर कभी प्रतिबंध या रोक नहीं लगाई गई है''. ऑस्ट्रोम ने अपनी इस प्रस्तावना को बल देने के लिए कहा कि ''1818 में ब्रिटिश की एक अदालत में मुकदमे को युद्ध के जरिए ही खत्म किया गया था''. हालांकि, इसकी संभावना कम है कि अन्य देशों के कानून को कैनसास की इस अदालत द्वारा स्वीकार किया जाएगा. 

इस पर ऑस्ट्रोम की पूर्व पत्नी के वकील ने कहा, ''इस बात पर ध्यान दिया जाना चाहिए कि भले ही यूएस और लोवा का संविधान युद्ध के लिए स्पष्ट रूप से मना नहीं करता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि कोर्ट में बैठे न्यायाधीश इस तरह की प्रस्तावना को मान लें''. 

हालांकि, यदि कोर्ट ने ऑस्ट्रोम को युद्ध की इजाजत दे दी तो यह इस तरह का पहला मुकदमा होगा.